2 एक्टर ने विलेन बनकर ली बॉलीवुड में एंट्री, फिर बने हीरो, हिल गए राजेश खन्ना और अमिताभ बच्चन

मुंबई। हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में कई बड़े-बड़े कलाकार हुए हैं, जिन्होंने अपनी अदाकारी से न सिर्फ ऑडियंस को बल्कि अपने को-एक्टर्स और इंडस्ट्री में काम करने वाले अन्य कालाकारों को प्रभावित किया. दिलीप कुमार, गुरु दत्त, देवानंद, राजेश खन्ना, अमिताभ बच्चन, शाहरुख खान, अक्षय कुमार, सलमान खान ऐसे ही कलाकार है, जिन्होंने अपने स्टारडम से इंडस्ट्री के लोगों को हिला कर रख दिया. लेकिन 1960 के आखिरी दशक में दो ऐसे कलाकारों ने बॉलीवुड में कदम रखे, जिससे उस दौर के बड़े-बड़े स्टार हिल गए थे.

खास बात यह है कि इन दोनों ही कलाकारों ने अपनी-अपनी डेब्यू फिल्मों में विलेन का किरदार निभाया था. लेकिन बाद में वह इतने बड़े हीरो बने कि आजतक उनका नाम चलता है. एक एक्टर की कदकाठी और पर्सनैलिटी, तो अमिताभ बच्चन को टक्कर देती थी. लेकिन दूसरा कलाकार अपने सांवले रंग और चेहरे पर निशान होने के बाद भी हिम्मत नहीं हारा और बॉलीवुड पर राज करने लगा.

अमिताभ बच्चन के ‘गुलाबी होंठ’ देख भड़क उठे थे डायरेक्टर, सबके सामने लगाई थी फटकार, बीच में ही रोक दी थी शूटिंग

अबतक तो आप समझ ही गए होंगे कि हम किसकी बात कर रहे हैं. नहीं, समझे हैं, तो बताते हैं हम बात कर रहे हैं विनोद खन्ना और शत्रुघ्न सिन्हा की. दोनों ने अपनी-अपनी डेब्यू फिल्म में विलेन का किरदार निभाया था. विनोद खन्ना ने साल 1968 में आई फिल्म ‘मन का मीत’ से डेब्यू किया था. इस फिल्म में उन्होंने प्राण नाम के विलेन का किरदार निभाया था.

विनोद खन्ना

विनोद खन्ना स्टारडम 70-80 के दशक में पीक पर रहा.

सुनील दत्त ने दिया था विनोद खन्ना को मौका

‘मन का मीत’ को सुनील दत्त ने प्रोड्यूस किया था. फिल्म में सोम दत्त लीड रोल में थे. विनोद ने अपने करियर की शुरुआत में विलेन और सपोर्टिंग रोल किए. बाद में वह लीड हीरो बने. उनकी पर्सनैलिटी और स्टारडम के आगे बॉलीवुड के कई बड़े एक्टर फैल हो थे. वहीं, शत्रुघ्न सिन्हा ने धर्मेंद्र और वैजयंतीमाला, प्राण, हेलेन और मदन पुरी स्टारर ‘प्यार ही प्यार’ से डेब्यू किया. इसमें वह एक विलेन के किरदार में थे.

amitabh-bachchan-shatrughan-Sinha

शत्रुघ्न सिन्हा अमिताभ बच्चन पर भारी पड़ने लगे थे.

शत्रुघ्न सिन्हा ने मनवाया अपनी अदाकारी का लोहा

‘प्यार ही प्यार’ को भप्पी सोनी ने डायरेक्ट किया था. यह धर्मेंद्र और वैयजंतीमाला की इकलौती फिल्म है, जिसमें दोनों ने साथ काम किया. यह फिल्म साल 1969 में आई थी. इस फिल्म के बाद शत्रुघ्न ने कई फिल्मों में छोटे और सपोर्टिंग रोल किए. बाद में उन्होंने भी लीड रोल वाली फिल्में कीं. शत्रुघ्न सिन्हा ने अपनी एक्टिंग का लोहा मनवाया और बॉलीवुड पर राज किया.

टैग: Amitabh bachchan, Rajesh khanna, विनोद खन्ना

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*