बरसात में बीमारियों से रहना है दूर? तो रोज करें योग-प्राणायाम, सेहत को मिलेंगे 4 बड़े लाभ, इम्यूनिटी भी होगी बूस्ट

हाइलाइट्स

जैसे-जैसे बारिश का मौसम आता जा रहा है बीमारियां उतनी ही बढ़ती जा रही हैं.
इस मौसम में सर्दी-खांसी के साथ ही फंगल इन्फेक्शन, दस्त का खतरा हो सकता है.
किसी भी परेशानी से बचने के लिए हेल्दी भोजन और योग करना लाभकारी हो सकता है.

बरसात के मौसम में योग के फायदे: ये तो हम सभी जानते ही हैं कि बारिश अपने साथ कई बीमारियों को लेकर आती है. क्योंकि कई ऐसी बीमारियां हैं, जिनका जुड़ाव सीधे तौर पर मौसम से ही होता है. इसलिए सेहत का ख्याल रखना बेहद जरूरी हो जाता है. बता दें कि, मौसम में बदलाव से आई नमी के कारण ही बैक्टीरिया पनपने का खतरा बढ़ता है. जैसे-जैसे बारिश का मौसम आता जा रहा है बीमारियां उतनी ही बढ़ती जा रही हैं. इस बदलते मौसम में जहां आप सर्दी-खांसी की चपेट में आ सकते हैं, वहीं आपको फंगल इन्फेक्शन, दस्त, टाइफाइड आदि का भी खतरा हो सकता है. इन बीमारियों से बचने के लिए हेल्दी भोजन और योग करना काफी लाभकारी हो सकता है. यदि आप योग को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनते हैं तो बरसात में होने वाली बीमारियों से बचे रह सकते हैं. आइए जानते हैं योग और प्राणायाम से होने वाले लाभ-

बरसात में योग-प्राणायाम करने के 4 चमत्कारी लाभ

इम्यूनिटी होगी स्टॉन्ग: एब्रीडे हेल्थ डॉट कॉम के मुताबिक, ज्यादातर आपने देखा होगा कि बारिश का मौसम आते ही लोग बीमारियों के चपेट में आने लगते हैं. क्योंकि इस मौसम में बैक्टीरिया अधिक पनपते हैं, जिससे रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है. ऐसे में आप योग की मदद से अपनी इम्युनिटी को स्टॉन्ग बना सकते हैं. ये योग शरीर को रोगों से लड़ने की क्षमता प्रदान करते हैं. यदि आप अपनी इम्यूनिटी को बूस्ट करना चाहते हैं तो भुजंगासन (कोबरा पोज), मत्स्यासन (मछली पोज), और सर्वांगासन (शोल्डर स्टैंड) जैसे योग की मदद ले सकते हैं. इन करामाती योगासनों को नियमित करने से इम्यूनिटी मजबूत करने और थाइमस ग्रंथि को बढ़ावा देने में असरदार होते हैं.

एनर्जी होगी बूस्ट: बरसात के दौरान बैक्टीरिया के चपेट में आते ही कई बार कमजोरी फील होने लगती है. इस कमजोरी को दूर करने के लिए आप वीरभद्रासन (वॉरियर पोज), अधोमुख शवासन (डाउनवर्ड-फेसिंग डॉग), सेतु बंधासन (ब्रिज पोज), और सूर्य नमस्कार (सूर्य नमस्कार) योगासन को कर सकते हैं. इसको नियमित करने से आपकी एनर्जी में ग्रोथ होगी और आपके शरीर में खून का फ्लो ठीक रहेगा.

ये भी पढ़ें: वर्कआउट के बाद बॉडी में हो जाता है दर्द? बिलकुल ना हों परेशान, 5 आसान टिप्स करें फॉलो, झट से मिल जाएगी राहत

प्राणायाम से सेहत होगी हेल्दी: मानसून के दौरान प्राणायाम करना बेहद फायदे का सौदा हो सकता है. नियमित प्राणायाम करने से आप कई तरह के लाभ उठा सकते हैं. बता दें कि, यदि आप आरामदायक और आरामदेह एनवायरनमेंट में प्राणायाम करेंगे तो ये आपकी बॉडी अधिक सक्रिय रहती है. इसको नियमित करने से स्वास्थ्य लाभ दोगुने होंगे. हालांकि इसके लिए गहरी, धीमी सांसों पर विशेष ध्यान देना होगा.

ये भी पढ़ें: बिना अंडा-मीट के हड्डियों को बनाना है सख्त, खाने शुरू कर दें ये 7 शाकाहारी फूड्स, बोन्स रहेंगे हेल्दी-मजबूत

फेफड़ों की बढ़ेगी कार्य क्षमता: अनुलोम-विलोम एक शानदार यौगिक क्रिया है. इसको नियमित करने से आप अपने ऊर्जा चैनलों का संतुलन को और शुद्ध कर सकते हैं. यह आपके फेफड़ों की क्षमता को बढ़ाने का भी काम करता है. इसके अलावा, अनुलोम विलोम से आपकी श्वसन क्षमता यानी कि ब्रीथिंग कैपेसिटी को मजबूत करता है.

टैग: योग के लाभ, स्वास्थ्य, जीवन शैली, Yogasan

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*