…तो जासूसी मदद से सीमा हैदर ने पार किया बॉर्डर? नेपाली अधिकारी का बड़ा दावा, बोले- होनी चाहिए जांच

हाइलाइट्स

नेपाली अधिकारी ने दावा किया कि ‘उसके इस प्लान में कोई दूसरा भी था.’
‘सीमा जासूसी मदद से नेपाल के रास्ते भारत में दाखिल हुई है.’
‘भारत नेपाल के लोगों को मिलने वाली सुविधा का सीमा हैदर ने पूरा फायदा उठाया.’

रिपोर्ट – दीपक बिष्ट/मानव यादव
नई दिल्ली: भारत नेपाल मैत्री बस सेवा सिर्फ भारत और नेपाल के नागरिकों को मिलने वाली वह सुविधा है जिसमें किसी तीसरे देश का कोई भी नागरिक इसका फायदा नहीं उठा सकता. लेकिन सीमा हैदर ने इस सेवा का फायदा तो उठाया ही, वहीं कई जगह पर झूठ बोलकर वह भारत में दाखिल हो गई. भारत नेपाल मैत्री बस सेवा के पोखरा में स्थित दफ्तर के निदेशक टीकाराम अधिकारी ने न्यूज़ 18 इंडिया के कैमरे पर खुलासा किया और दावा किया कि कैसे भारत-नेपाल के बॉर्डर में चूक होती है. साथ ही बताया कि सीमा हैदर मामले की जांच होनी चाहिए.

नेपाली बस सर्विस के अधिकारी ने दावा करते हुए कहा कि ‘पाकिस्तानी महिला सीमा गुलाम हैदर बेहद चालाक है. उसे पता था कि वो पाकिस्तानी है और आसानी से भारत में दाखिल नही हो सकती है. इसलिए इसने एक बड़ा प्लान बनाया. उसके इस प्लान में कोई दूसरा भी शामिल था, जिसे नेपाल से भारत आने के सभी रूट की पूरी जानकारी थी. उसने सीमा को भी इस रूट के बारे में अच्छी तरह से समझाया था.’

पढ़ें- सीमा हैदर ने कराई मुल्क की फजीहत, खतरे में सिंध की औरतें- पाकिस्तान की टॉप हिन्दू वकील का फूटा गुस्सा

सीमा हैदर को जासूसी मदद दी गई- नेपाल अधिकारी का खुलासा
पोखरा में भारत नेपाल मैत्री बस सेवा के सरकारी केंद्र के निदेशक टीकाराम अधिकारी ने खुलासा किया कि सीमा हैदर को जासूसी मदद दी गई. उन्होंने न्यूज18 से कहा कि ‘कोई था जिसने इस पूरे रूट में उसकी मदद की है ताकि वह भारत में दाखिल हो सके. भारत नेपाल के लोगों को मिलने वाली सुविधा का सीमा हैदर ने पूरा फायदा उठाया. उसे पता था कि किस बॉर्डर पर कितनी सघन चेकिंग होती है और कहां से निकलना मुश्किल होता है. इसके लिए उसने काफी दिन से नजर रखनी शुरू की हो सकती है. जब वह नेपाल के पोखरा में पहुंची थी, तो वहां पर उसने अपना नाम तो गलत बताया ही, वहीं पहचान भी छिपाई.’

टीकाराम के मुताबिक भारत नेपाल सीमा से जुड़े कई बॉर्डर हैं जिनमें जोगमढ़ी, रक्सौल, एमजी रोड, सिद्धार्थ नगर, बनबसा, सुनौली जैसे कई बॉर्डर हैं जहां पर सख्त चैकिंग और इमिग्रेशन टीम है. जो लोग अवैध रुप से जा रहे हैं, वो किसी न किसी की मदद लेकर इस सेवा का फायदा उठा रहे हैं. इससे तो कोई भी तीसरे मुल्क का व्यक्ति आसानी से प्रवेश कर सकता है. अधिकारी ने बताया कि अगर बस के पैसेंजर को चैक किया जाता, तो वो पकड़ी जाती. बॉर्डर से गई तो वहां चेकिंग नही हुई. जिस बॉर्डर से आसानी से लोग जाते हैं, वो सिद्धार्थ नगर का साका बॉर्डर है और सीमा हैदर उसी बॉर्डर का फायदा उठाकर निकली है. वैसे दूसरे बॉर्डर पर 3 तरह की चेकिंग होती है. पहले नेपाल, फिर भारत की एसएसबी और उसके बाद पुलिस की टीमें जांच करती हैं.

यह भी पढ़ें- Seema Haider Pakistan: फूफी, फल और… सीमा हैदर के कोडवर्ड को डिकोड करेगी ATS, ऐसे गहराया शक, हाथ लगे कई अहम सुराग

टीकाराम ने बताया कि सीमा हैदर 12 मई को नेपाल के काठमांडू होते हुए पोखरा पहुंची. रात किसी होटल में बिताकर सुबह वो सृष्टि बस सर्विस के दफ्तर में पहुंची. सीमा हैदर ने बस सर्विस के मैनेजर से लोकेशन मांग ली. जिसके बाद वो खुद को भारतीय नागरिक बताकर बिना आईडी दिखाए ही बॉर्डर पार करके भारत चली गई. अगर दूसरे बॉर्डर पर जल्द सख्ती नहीं हुई, तो ऐसे न जाने कितने लोग दूसरे देशों से नेपाल आकर इसका फायदा उठा लेंगे.

नेपाल भारत बॉर्डर पर 4 जगह होती है चेकिंग
सरोजिनी नगर में ट्रैवल एजेंसी चलाने वाले भरत ने बताया कि जब बस पोखरा से दिल्ली के लिए रवाना होती है, तो पहले नेपाल की सीमा में ही तीन जगह चेकिंग होती है. उसके बाद भारत की सीमा में प्रवेश करने के बाद फिर से चेकिंग होती है. ऐसे में बिना पहचान बताए नेपाल से भारत आना नामुमकिन है. सृष्टि यातायात के प्राइवेट लिमिटेड की तरफ से बताया गया है कि उनके बस ड्राइवर और कंडक्टर को नोएडा में ATS ने बुलाया था और फिर पूछताछ के बाद छोड़ दिया. जानकारी के मुताबिक फिलहाल बस ड्राइवर और कंडक्टर वापस काठमांडू के लिए रवाना हो गए हैं.

टैग: प्रेम कहानी, पबजी, सीमा हैदर

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*