सीमा हैदर ने कराई मुल्क की फजीहत, खतरे में सिंध की औरतें- पाकिस्तान की टॉप हिन्दू वकील का फूटा गुस्सा

नई दिल्ली. पाकिस्तान के सिंध प्रांत की रहने वाली 30 वर्षीय सीमा हैदर को लेकर भारत के साथ-साथ उसके देश पाकिस्तान में भी खूब चर्चा हो रही है. पबजी गेम खेलने के दौरान दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा के रबूपुरा गांव में रहने वाले सचिन मीणा से शुरू हुई बातचीत और फिर उसके प्रेम में पड़कर अपने 4 बच्चों के साथ जिस तरीके से सीमा भारत में दाखिल हुई, उसे लेकर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं. इस बीच पाकिस्तान की पहली हिन्दू महिला एडीशनल एडवोकेट जनरल कल्पना देवी ने भी इस पूरे मामले पर बड़ा बयान दिया है.

कल्पना देवी ने न्यूज़18 इंडिया के साथ खास बातचीत में कहा कि सीमा हैदर के भारत जाने से पूरे पाकिस्तान और खासकर सिंध प्रांत की फजीहत हुई है. इसके साथ ही उन्होंने दावा किया कि सीमा हैदर के भारत जाने से सिंध प्रांत की महिलाएं खतरे में हैं.

कल्पना देवा ने News18 इंडिया से बातचीत में कहा, ‘सीमा हैदर की गतिविधियां संदिग्ध लग रही हैं. उसे अपने किए की सजा मिलनी चाहिए. अगर वह पाकिस्तान वापस आई तो उसे जरूर सजा मिलेगी.’

ये भी पढ़ें- सीमा हैदर ने भारत में घुसने के लिए कदम-कदम पर लिया झूठ का सहारा, नेपाल के बस वालों को भी धोखे में रखा

बता दें कि सिंध की रहने वाली सीमा हैदर 13 मई को नेपाल के रास्ते अपने चार बच्चों के साथ अवैध रूप से भारत आ गई थी. सीमा का कहना है कि वह पाकिस्तान वापस नहीं जाना चाहती और अपने प्रेमी सचिन मीणा के साथ भारत में ही रहना चाहती है.

सीमा हैदर को अवैध रूप से भारत में प्रवेश करने पर चार जुलाई को गिरफ्तार कर लिया गया था और सचिन को अवैध प्रवासी को शरण देने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. दोनों को सात जुलाई को एक स्थानीय अदालत ने जमानत दे दी थी और वे अपने चार बच्चों के साथ रबूपुरा इलाके के एक घर में रह रहे हैं.

सीमा हैदर के इस तरह भारत में दाखिल होने को लेकर यूपी एटीएस की टीम भी उससे पूछताछ कर चुकी है और अपनी रिपोर्ट राज्य के गृह विभाग को सौंप दी है. खबर है कि सुरक्षा एजेंसियां सीमा को वापस उसके देश पाकिस्तान भेजने की प्लानिंग कर रही हैं. हालांकि इस बारे में फैसला गृह विभाग की ओर से निर्देश मिलने के बाद ही किया जाएगा.

टैग: पाकिस्तान कीखबरें, सीमा हैदर

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*