विराट कोहली 76वां शतक लगाने के बाद क्यों भड़के? कहा- घर के बाहर… यह रिकॉर्ड खराब नहीं

नई दिल्ली. विराट कोहली ने वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे टेस्ट में 121 रन की बेजोड़ पारी खेली. यह उनका इंटरनेशनल क्रिकेट का 76वां शतक है. पूर्व कप्तान कोहली ने 55 महीने बाद विदेशी धरती पर टेस्ट में शतक ठोका. कोहली के शतक के दम पर भारतीय टीम दूसरे दिन पहली पारी में 438 रन बनाकर आउट हुई. आर अश्विन और रवींद्र जडेजा ने भी अर्धशतक जड़कर स्कोर को 400 के पार पहुंचाने में अहम रोल निभाया. दिन का खेल खत्म होने पर वेस्टइंडीज ने पहली पारी में एक विकेट पर 86 रन बनाए हैं. वह भारतीय टीम के स्कोर से अभी भी 352 रन पीछे है. टीम इंडिया 2 मैचों की सीरीज में 1-0 से आगे चल रही है. सीरीज के पहले मुकाबले में भारतीय टीम को पारी से जीत मिली थी.

दिन का खेल खत्म होने के बाद विराट कोहली ने अपने शतक और पारी को लेकर मीडिया से बात की. विदेशी धरती पर दिसंबर 2018 के बाद शतक लगाने के सवाल पर उन्होंने पलटवार के अंदाज में जवाब दिया. विराट कोहली ने कहा कि ईमानदारी से कहूं ये चीजें बाहर चलती रहती हैं. मैंने घर के बाद टेस्ट में 15 शतक ठोके हैं. यह खराब रिकॉर्ड नहीं है. मालूम हो कि कोहली के टेस्ट में अब 29 शतक हो गए हैं. आधे से अधिक शतक उन्होंने घर के बाहर ही लगाए हैं.

टीम को ऐसी पारी की जरूरत थी
विराट कोहली ने कहा कि यह शतक उनके लिए यह खास है, क्योंकि टीम को उनसे ऐसी पारी की जरूरत थी. उन्होंने कहा कि मैं जो रिकॉर्ड बनाता हूं, उसकी अहमितय तभी है, जब वह टीम की जरूरत पर काम आए. 500वां मैच मेरे लिए खास है, आखिरकार मैं यहां तक पहुंच सका. कोहली ने कहा कि 50 हो या 100 या 200, यह मेरे लिए तभी मायने रखता है, जब यह टीम के काम आए.

विराट कोहली के 76 शतक 10 देशों के खिलाफ आए, ऑस्ट्रेलिया फेवरेट टीम, विदेशी धरती पर गरजता है बल्ला

पोर्ट ऑफ स्पेन की पिच को लेकर उन्होंने कहा कि यह धीमी थी. ऐसे में बल्लेबाजी आसान नहीं थी. आपको शॉट खेलने के लिए खराब गेंद का इंतजार करना था. भारतीय पारी की बात करें, तो कप्तान रोहित शर्मा ने 80 तो यशस्वी जायसवाल ने भी 57 रन बनाए. 2 मैचों की टेस्ट सीरीज के बाद भारत और वेस्टइंडीज के बीच 27 जुलाई से 3 मैचों की वनडे सीरीज खेली जानी है.

टैग: भारत बनाम वेस्टइंडीज, टीम इंडिया, विराट कोहली

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*