बॉलीवुड का वो गुरुकुल, जहां ट्रेनिंग लेते हैं फिल्मी कुत्ते, हाथी और तमाम जानवर, गधे से लेकर खरगोश तक यहीं बनते हैं स्टार

मुंबई. आमिर खान की फिल्म ठग्स ऑफ हिंदुस्तान का गधा याद है, जिसकी सवारी करते हुए आमिर खान की फोटो फिल्म के पोस्टर पर छपी थी. या फिर अक्षय कुमार की फिल्म एंटरटेनमेंट का कुत्ता, जो किसी स्टार से कम नहीं है. हाल ही में रिलीज हुई वरुण धवन की फिल्म भेड़िया में दिखे पहाड़ी कुत्ते याद हैं? फिल्मों में दिखने वाले पालतू जानवर कहां से आते हैं? इनकी ट्रेनिंग कहां से होती है कि स्टार्स के साथ भी ये पर्दे पर महफिल लूट लेते हैं. अगर हम आपसे कहें कि एक्टर्स की तरह पालतू जानवरों को भी स्टार्स बनाने की ट्रेनिंग दी जाती है, तो थोड़ा अजीब जरूर लगेगा. लेकिन ये सच है. सलमान खान और सोनम कपूर स्टारर फिल्म ‘प्रेम रतन धन पायो’ में नजर आए दोनों हाथी किसी जंगल से पकड़कर नहीं बल्कि गुरुकुल से बुलाए गए थे. ये गुरुकुल मुंबई में है और जावेद खान नाम के शख्श इसके मालिक हैं. जावेद खान अब तक बॉलीवुड की हजार से ज्यादा फिल्मों में अपने जानवरों से एक्टिंग करा चुके हैं.

01

साल 2003 में रिलीज हुई अमिताभ बच्चन और हेमा मालिनी स्टारर फिल्म बागवां आज भी टीवी पर खूब पसंद की जाती है. इस फिल्म में भी अमिताभ बच्चन 2 कुत्तों को लेकर घूमते नजर आते हैं. ये दोनों कुत्ते मुंबई के गुरुकुल के हैं. गुरुकुल बॉलीवुड के लिए जानवर सप्लाई करने का काम करता है. गुरुकुल में पल रहे कुत्तों से लेकर गधों और हाथियों तक को स्टार्स बनने के लिए ट्रेंड किया जाता है. अक्षय कुमार स्टारर फिल्म एंटरटेनमेंट में लीड हीरो के साथ स्क्रीन शेयर करते वाला कुत्ता इसी गुरुकुल से आया था. (फोटो साभार-Youtube)

02

गुरुकुल में 20 नस्लों के कुत्ते हैं और जानवरों की कई वैरायटी यहां पाली जाती है. कुत्तों के अलावा कई किस्म की बिल्लियों की भी ट्रेनिंग लगातार चलती रहती है. गधे, हाथी और तमाम पक्षियों के साथ गुरुकुल चूहे और खरगोशों को भी पाला जाता है. ये सभी जानवर फिल्मों में काम के लिए तैयार किए जाते हैं. गुरुकुल चलाने वाले जावेद खान ने बीबीसी को दिए इंटरव्यू में बताया, ‘इस काम को मेरे पिता ने शुरू किया था. मेरे पिता अनाथ आश्रम में पले-बढ़े थे और फिल्म इंडस्ट्री में कुत्ता घुमाने की नौकरी किया करते थे. (फोटो साभार-Instagram)

03

एक दिन वे कुत्ता घुमाने सड़क पर निकले और डायरेक्टर बीआर चोपड़ा की नजर उन पर पड़ गई. उन्होंने अपनी फिल्म में कुत्ते के रोल का ऑफर दिया. इसके बदले में उन्होंने अच्छे पैसे भी ऑफर किए. जब फिल्म का शूट पूरा हुआ तो मेरे पिता ने यही व्यापार करने का मन बनाया. इसी तरह गुरुकुल की नींव पड़ी. अब गुरुकुल में इसी तरह जानवरों को फिल्मी पर्दे के लिए ट्रेनिंग दी जाती है. फिल्मों के साथ विज्ञापनों में भी हमारे जानवरों का खूब इस्तेमाल होता है.’  (फोटो साभार-Instagram)

04

फिल्मों में काम करने वाले जानवरों की फीस को लेकर भी जावेद खान ने बताया, ‘हम एक दिन की शूट के लिए कुत्तों का 5-8 हजार रुपये तक चार्ज करते हैं. लेकिन जो बड़े जानवर हैं उनका पैसा भी ज्यादा होता है. कई बार फिल्मों में जानवरों के रोल के हिसाब से पैसे तय किए जाते हैं. हाथी जैसे बड़े जानवरों के लिए मोटा पैसा देना होता है. हालांकि ये काम हम बिना सरकारी अनुमति के नहीं कर सकते. हमारे पास प्रोड्यूसर्स या डायरेक्टर अपनी जरूरत लेकर आते हैं. इसके बाद हमें इसका रजिस्ट्रेशन कराना पड़ता है और शूटिंग के लिए प्रशासन से अनुमति लेनी पड़ती है. इसके बाद ही हम काम शुरू करते हैं.’ (फोटो साभार-Instagram)

05

जावेद खान ने अपने इंटरव्यू में आमिर खान, अमिताभ बच्चन और कैटरीना कैफ स्टारर फिल्म ठग्स ऑफ हिंदुस्तान की शूट का एक मजेदार किस्सा भी सुनाया. जावेद खान बताते हैं, ‘ठग्स ऑफ हिंदुस्तान में आमिर खान ने गधे की सवारी की थी. ये हमारे गुरुकुल से ही राजस्थान ले जाया गया जहां फिल्म के सीन शूट किए गए. गधे का नाम नवाब था. सेट पर आमिर खान भी उसे नवाब ही बुलाया करते थे. आमिर खान गधे को इज्जत के साथ उसके नाम से बुलाया करते थे साथ ही सेट पर मौजूद सभी लोग नवाब नाम से बुलाये जाने के बाद गधे का रिएक्शन देखकर भी चौंक जाया करते थे.’ (फोटो साभार-Instagram)

(टैग्सटूट्रांसलेट)फिल्मी पालतू जानवरों को गुरुकुल में प्रशिक्षित किया जाता है(टी)फिल्मी कुत्तों और पालतू जानवरों को गुरुकुल में प्रशिक्षित किया जाता है(टी)फिल्मी पालतू जानवरों के लिए विशेष गुरुकुल(टी)फिल्मी पालतू जानवरों के लिए गुरुकुल(टी)मुंबई गुरुकुल जहां फिल्मी पालतू जानवरों को प्रशिक्षण मिलता है(टी)मनोरंजन मूवी कुत्ते गुरुकुल के हैं(टी)ठग्स ऑफ हिंदुस्तान के आमिर खान गधा गुरुकुल से संबंधित है(टी)प्रसिद्ध टीवी कुत्तों की सूची

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*