एकनाथ शिंदे का अचानक दिल्ली दौरा, महाराष्ट्र की सियासत में हड़कंप, अटकलों-अफवाहों का दौर तेज

हाइलाइट्स

महाराष्ट्र के सीएम एकनाथ शिंदे की अचानक दिल्ली यात्रा.
सरकार में अजित पवार की एंट्री से शिवसेना में नाराजगी की खबरें.
शिंदे की शनिवार की दिल्ली यात्रा ने नई अटकलों को जन्म दिया.

नई दिल्ली. महाराष्ट्र सरकार में अजित पवार (Ajit Pawar) की एंट्री होने के साथ ही शिवसेना (शिंदे गुट) में नाराजगी की खबरों के बीच सीएम एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) की अचानक दिल्ली यात्रा से नई अफवाहें उड़ने लगीं हैं. सूत्रों ने न्यूज18 को बताया कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे शनिवार को दिल्ली में बीजेपी नेतृत्व से मुलाकात करेंगे. शिंदे की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की ‘अचानक’ यात्रा ने नई अटकलों को जन्म दे दिया है क्योंकि इस महीने की शुरुआत में एनसीपी (NCP) के अजित पवार के सरकार में शामिल होने को लेकर शिंदे के नेतृत्व वाली शिवसेना (Shiv Sena) में मतभेद की खबरें मिलीं थीं.

इससे पहले जुलाई में सीएम एकनाथ शिंदे ने उन अटकलों को खारिज कर दिया था कि उनके गुट के नेता अजित पवार की एनसीपी के सरकार में शामिल होने से नाखुश थे. उन्होंने कहा था कि राज्य सरकार में पवार के शामिल होने से उनकी सरकार में कोई भी नाखुश नहीं है. शिंदे ने इसे ‘विपक्ष द्वारा फैलाई गई अफवाहें’ बताया. जिसका मानना है कि अजित पवार और आठ अन्य एनसीपी विधायकों के उनके मंत्रिमंडल में शामिल होने के बाद उनकी मुख्यमंत्री पद की कुर्सी खतरे में पड़ सकती है. गौरतलब है कि एनसीपी नेता अजीत पवार ने लगभग 30 एनसीपी विधायकों के समर्थन से 2 जुलाई को महाराष्ट्र के दूसरे उपमुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी. जिनमें से आठ सीएम एकनाथ शिंदे के मंत्रिमंडल में शामिल किए गए थे.

एनसीपी में टूट के बाद पहली बार मिले अजित पवार और उद्धव ठाकरे, सियासी हलचल बढ़ी, जानें क्‍या हुई चर्चा?

बहरहाल इस तरह की खबरें तब सामने आईं, जब कुछ शिवसेना विधायकों ने अजित पवार के नेतृत्व वाले एनसीपी गुट के राज्य सरकार में शामिल होने पर चिंता जाहिर की थी. हालांकि शिंदे ने बाद में शिवसेना विधायकों, एमएलसी और सांसदों के साथ एक बैठक की. मुख्यमंत्री बनने की इच्छा जताने वाली पवार की टिप्पणी के बाद राजनीतिक हलकों में हलचल मच गई. इस टिप्पणी से शिंदे गुट अपने विधायकों के खिलाफ अयोग्यता की शिकायत पर विधानसभा अध्यक्ष के फैसले के इंतजार को देखते हुए घबरा गया. हालांकि मतभेद की खबरों के बीच महाराष्ट्र के मंत्री उदय सामंत ने शिंदे के इस्तीफे की अफवाहों को खारिज कर दिया था और उन्हें ‘झूठ’ करार दिया था.

टैग: Ajit Pawar, एकनाथ शिंदे, महाराष्ट्र राजनीति, शिव सेना

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*