पीएम मोदी ने कहा- वर्कफोर्स को स्किल्ड बनाना वक्त की जरूरत, अब तक 1.25 करोड़ युवाओं को प्रशिक्षित किया गया

इंदौर (मध्य प्रदेश): प्रौद्योगिकी को रोजगार का मुख्य कारक करार देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि उन्नत तकनीक और प्रक्रियाओं के इस्तेमाल से कार्यबल को कौशलसंपन्न बनाया जाना वक्त की जरूरत है. पीएम मोदी ने जी20 समूह के देशों के श्रम और रोजगार मंत्रियों की इंदौर में आयोजित बैठक में वीडियो संदेश के जरिये कहा, ‘‘हमें उन्नत तकनीक और प्रक्रियाओं का इस्तेमाल करते हुए अपने कार्यबल को कौशलसंपन्न बनाए जाने की जरूरत है. सतत कौशल विकास ही भविष्य के कार्य बल का मूल मंत्र है.’’

उन्होंने कहा कि चौथी औद्योगिक क्रांति के मौजूदा दौर में तकनीक रोजगार का मुख्य कारक बन गई है और आगे भी बनी रहेगी. पीएम मोदी ने कहा कि नई तकनीकों के कारण गुजरे समय में हुए बदलावों के दौरान भारत को तकनीक से जुड़े रोजगार बड़े पैमाने पर सृजित करने का अनुभव है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बताया कि भारत में प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत अब तक 1.25 करोड़ से ज्यादा युवाओं को प्रशिक्षित किया गया है. प्रधानमंत्री ने कहा कि देश ने कृत्रिम मेधा (एआई), रोबोटिक्स, इंटरनेट ऑफ थिंग्स और ड्रोन के क्षेत्रों पर विशेष ध्यान केंद्रित किया है.

ये भी पढ़ें- G20 श्रम मंत्रियों की बैठक: PM मोदी ने कहा- वैश्विक स्तर पर मोबाइल वर्क फोर्स भविष्य की रियल्टी

पीएम मोदी ने कहा कि लगातार भ्रमण करने वाला कार्य बल भविष्य की हकीकत बनने जा रहा है, लिहाजा विकास को वैश्विक स्वरूप देते हुए कौशल को सच्चे मायनों में साझा किया जाना वक्त की मांग है. उन्होंने जोर देकर कहा कि जी20 समूह को इस सिलसिले में अगुआई करनी चाहिए.

टैग: रोज़गार, जी -20, जी20 शिखर सम्मेलन, श्रम मंत्रालय, पीएम तरीके

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*