PHOTOS: कातिल डांस और जासूसी… हुस्न की रानी थी यह महिला, 50 हजार लोगों की चढ़वाई बलि, मिली बेहद दर्दनाक मौत

Mata Hari: अब तक आपने बहुत सारे पुरुष जासूसों के नाम सुने होंगे, लेकिन आज हम आपको इतिहास की सबसे बड़ी महिला जासूस के बारे में बताने जा रहे हैं. यह कहानी है माता हारी की. माता हारी 7 अगस्त 1876 को नीदरलैंड में पैदा हुईं. माता हारी की शादी नीदरलैंड की शाही सेना के एक अधिकारी से हुई थी, जो इंडोनेशिया में तैनात था. दोनों तत्कालीन डच ईस्ट इंडीज के द्वीप जावा में रह रहे थे. इंडोनेशिया में ही वो एक डांस कंपनी में शामिल हो गईं थीं और उन्होंने अपना नाम मार्गरेट गीर्तोईदा जेले से बदलकर माता हारी कर लिया था. यह कोई आम महिला नहीं यह एक जासूस थीं. माता हारी की मौत के 100 साल बाद भी यह रहस्य है कि वह फ्रांस की जासूस थीं या जर्मनी की. (सभी फोटो: इंस्टाग्राम)

01

माता हारी की सच्ची कहानी उनकी मृत्यु के 100 साल बाद भी एक रहस्य बनी हुई है. माता हारी का जन्म 7 अगस्त 1876 को नीदरलैंड में हुआ था.

02

माता हारी को इतिहास की सबसे बड़ी महिला जासूस के रूप में चित्रित किया गया है. इसी महिला द्वारा दी गई जानकारियों के दम पर जर्मनी (Germany) ने प्रथम विश्व युद्ध के दौरान फ्रांस के 50 हजार से अधिक सैनिकों को मारा था.

03

माता हारी एक बेहतरीन डांसर भी थीं. पहले विश्‍व युद्ध के समय तक वह पेरिस में एक डांसर और स्ट्रिपर के रूप में मशहूर हो गई थीं. उनका कार्यक्रम देखने कई देशों के लोग और सेना के बड़े अधिकारी पहुंचा करते थे. माता हारी का पूरे यूरोप में नाम था.

04

मार्गरेट गीर्तोईदा जेले उर्फ माता हारी जासूसी की दुनिया का सबसे मशहूर नाम है. पेरिस में उन्होंने अपनी मोहक अदाओं से लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया था और उनका नाम लोगों की जुबान पर चढ़ गया था. नीदरलैंड्स लौटने के बाद 1907 में माता हारी ने अपने पति को तलाक दे दिया और पेशेवर डांसर के रूप में पेरिस चली गईं. पेरिस में माता हारी एक साल तक एक फ्रेंच राजनीतिज्ञ की रखैल बनकर रहीं.

05

इसी दौरान फ्रेंच सरकार ने माता हारी को जासूसी करने के लिए राजी कर लिया. फ्रेंच सरकार ने प्रथम विश्वयुद्ध के समय माता हारी को हथियार बना कर जर्मन मिलिट्री ऑफिसर्स की कई महत्वपूर्ण जानकारियां हासिल की थीं. दुनिया आज भी यह जानने का प्रयास कर रही है कि यह महिला फ्रांस की जासूस थी या जर्मनी की. 41 वर्ष की उम्र में माता हारी को जर्मनी के लिए जासूसी करने के आरोप में गोलियों से भून दिया गया था.

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*