Muharram 2023: आज से मुहर्रम महीने की शुरूआत, क्यों ताजिया निकालकर मातम मनाते हैं मुसलमान? जानें कर्बला की जंग का इतिहास

हाइलाइट्स

मुहर्रम का त्योहार मुसलमानों के लिए गम का माना जाता है.
मुहर्रम की 10 तारीख को शिया मुस्लिम मातम करते हैं, ताजिए बनाए जाते हैं.

आगरा: आज 20 जुलाई से मुहर्रम के महीने की शुरुआत हुई है. मुहर्रम का त्योहार मुसलमानों के लिए गम का माना जाता है. मुहर्रम के महीने की 10 तारीख को मुस्लिमों के नबी हज़रत इमाम और हज़रत हुसैन की शहादत हुई थी. इसी को लेकर मुस्लिम समाज इस पूरे महीने को गम के रूप मनाता है.

इस महीने होता है मातम
मुहर्रम की 10 तारीख को शिया मुस्लिम मातम करते हैं. ताजिए बनाए जाते हैं, फिर उनको कब्रिस्तान में सुपुर्द ए खाक किया जाता है. काले लिबास मुस्लिम महिलाएं और पुरुष पहनते हैं. किसी परिवार में कोई मृत्यु हो जाती है, जिस तरह का माहौल उस परिवार में होता है, मुस्लिम समाज के लोग मुहर्रम की 10 तारीख को वही माहौल अपने घर रखते हैं. चूल्हा नहीं जलाते, झाड़ू नहीं लगाते हैं. खाना नहीं बनाते हैं. दूसरे घर से खाना आता है तो ये लोग खाते हैं.

यह भी पढ़ें: भारत में 19 जुलाई से शुरू हो रहा मुहर्रम, किस दिन है यौम-ए-आशूरा? जानें इतिहास और महत्व

इसलिए मनाया जाता है मुहर्रम
बताया जाता है कि लगभग 1400 साल पहले कर्बला की जंग हुई थी. यह जंग हजरत इमाम और हज़रत हुसैन (यह दोनों भाई थे) ने साथ में मिलकर बादशाह यजीद की सेना के साथ लड़ी थी. बादशाह यजीद इस्लाम धर्म को खत्म करना चाहता था. इस्लाम धर्म को बचाने के लिए यह जंग लड़ी गई और इस जंग के अंत में हजरत इमाम और हज़रत हुसैन की मृत्यु हो गई थी.

जिस दिन इनकी मृत्यु हुई वह दिन मुहर्रम के महीने की 10 तारिख बताई जाती है, इसलिए हर साल मुहर्रम की 10 तारीख को मातम किया जाता है. वैसे तो मुस्लिम इस मुहर्रम के पूरे महीने को अपने लिए गम का महीना मानते हैं. इस महीने घर में कोई नया कपड़ा नहीं आता, कोई नई चीज़ नहीं आती, टीवी नहीं चलता, सिर्फ नमाज और कुरान की तिलावत की जाती है.

यह भी पढ़ें: इस साल सावन में हैं दो श्रावण पूर्णिमा, कब मनाया जाएगा रक्षाबंधन? क्या है राखी बांधने का शुभ समय?

लेकिन 10 तारीख को इमाम और हुसैन की शहादत वाले दिन शिया और सुन्नी मुस्लिम सभी मिलकर ताज़िए निकालते हैं. फिर उनको कब्रिस्तान में जाकर सुपुर्द ए खाक किया जाता है.

आगरा में भी अलग-अलग जगह ताज़िए बनाए जाते हैं और उनको कब्रिस्तान में ले जाकर सुपूर्द ए खाक करते हैं. सबसे बड़ा ताजिया फूलों का ताजिया माना जाता है. जो कि आगरा की नई बस्ती में हर साल रखा जाता है और फिर उसको सुपूर्द ए खाक करते हैं.

टैग: Dharma Aastha, मुहर्रम, मुस्लिम धर्म

(टैग्सटूट्रांसलेट)मुहर्रम 2023(टी)मुहर्रम 2023 भारत(टी)मुहर्रम 2023 भारत में शुरू होने की तारीख(टी)मुहर्रम 2023 तारीख(टी)मुहर्रम में मुसलमान उपवास और शोक क्यों मनाते हैं(टी)मुहर्रम 2023 भारत में तारीख(टी)करबला की लड़ाई के बारे में जानें(टी)करबला की लड़ाई(टी)करबला की लड़ाई क्या है(टी)इस्लामिक न्यू वर्ष(टी)इस्लामिक नव वर्ष 2023(टी)मुहर्रम 2023 इतिहास(टी)मुहर्रम 2023 महत्व(टी)इस्लामिक नववर्ष 2023 शुभकामनाएं(टी)इस्लामिक नववर्ष 2023 उद्धरण

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*