भरभरा कर टूट रहे हैं नाखून, अगर ऐसा है तो समझें प्रोटीन की हो गई है भारी कमी, 7 संकेतों से समझें इशारा

हाइलाइट्स

प्रोटीन की कम से इससे हड्डियां कमजोर होने लगती है जिसके कारण हड्डियों में फ्रेक्चर होने का खतरा बढ़ जाता है.
प्रोटीन की कमी हो जाए तो हमेशा कुछ न कुछ बीमारी लग जाती है.

प्रोटीन की कमी: प्रोटीन की कमी से शरीर का पूरा सिस्टम बिगड़ जाता है. हमारे शरीर में करीब एक हजार तरह के प्रोटीन होते हैं. यानी शरीर के हर अंग में प्रोटीन की मौजूदगी है. इससे समझा जा सकता है कि प्रोटीन का हमारे जीवन में कितना महत्व है. प्रोटीन हमारे शरीर में टूटे-फूटे सेल्स की मरम्मत करता है जो शरीर की वृद्धि और विकास के लिए जरूरी है. प्रोटीन से ही एमिनो एसिड बनता है जो किसी भी जीव के लिए जीवन का आधार है. एक वयस्क इंसान को हर दिन 50 से 60 ग्राम प्रोटीन की जरूरत होती है.

अगर इससे कम वह प्राप्त करता है तो प्रोटीन की भयंकर कमी हो सकती है. इससे उसके पूरे मसल्स और इम्यून सिस्टम प्रभावित हो जाता है. हड्डियों का विकास रुक जाता है. भूख बढ़ जाती है और बूढ़ा दिखने लगने लगता है. इसलिए शरीर में हर हाल में प्रोटीन की कमी नहीं आने दें. कुछ ऐसे संकेत हैं जिनके आधार पर यह समझा जा सकता है कि किसी इंसान के शरीर में प्रोटीन की कमी होने लगी है.

प्रोटीन की कमी के संकेत

1 .नाखूनों में भंगुरता-प्रोटीन की कमी होने पर नाखून भरभराकर टूटने लगते हैं. नाखून बहुत कमजोर हो जाते हैं और कभी भी हल्का सा किसी चीज में लगने पर टूटने लगते हैं.

2. बहुत ज्यादा भूख-प्रोटीन की कमी शरीर को खोखला बना देती है. इसमें बहुत ज्यादा कमजोरी हो जाती है और बहुत तेज भूख लगती है.

3. बीमार पड़ जाना-प्रोटीन की कमी हो जाए तो हमेशा कुछ न कुछ बीमारी लग जाती है. इससे इम्यून सिस्टम बहुत कमजोर हो जाता है जिसके कारण जल्दी-जल्दी इंफेक्शन लग जाता है.

4. मूड चेंज-प्रोटीन की कमी होने पर मूड बहुत खराब रहता है. कुछ चीज के बारे में सोचने की क्षमता पर असर पड़ता है. प्रोटीन की कमी के कारण ब्लड शुगर बहुत जल्दी-जल्दी कम-ज्यादा होने लगता है. इससे न्यूरोन यानी तंत्रिका तंत्र कमजोर होने लगती है जिसके कारण हमेशा मूड चेंज होते रहता है.

5. मसल्स में कमजोरी-प्रोटीन की कमी से मसल्स मास कम होने लगता है, जाहिर है इससे मसल्स में कमजोरी आएगी और हमेशा बदन दर्द करने लगेगा.

6.हड्डियों में कमजोरी-प्रोटीन की कम से इससे हड्डियां कमजोर होने लगती है जिसके कारण हड्डियों में फ्रेक्चर होने का खतरा बढ़ जाता है. इसके साथ ही स्किन और बाल भी मटमैले होने लगते हैं.

7. वजन घटना-प्रोटीन की कमी से किसी भी सेल्स में वृद्धि नहीं होती. मसल्स मास घटने लगता है. ऐसे में वजन में भारी कमी लाजिमी है.
इसे भी पढ़ें-फर्टिलिटी को कबाड़ कर सकती हैं ये चीजें, तुरंत सुधार लें अपनी आदतें, वरना नपुंसकता को देगी दावत

इसे भी पढ़ें-बारिश के मौसम में स्ट्रीट फूड से क्यों रहना चाहिए दूर, शरीर बेवजह बन जाता है बीमारियों का घर, गलतियां पड़ सकती है भारी

टैग: स्वास्थ्य, स्वास्थ्य सुझाव, जीवन शैली

(टैग्सटूट्रांसलेट)प्रोटीन की कमी(टी)प्रोटीन की कमी के लक्षण(टी)प्रोटीन की कमी के लक्षण(टी)संकेत आपको पर्याप्त प्रोटीन नहीं मिल रहा है(टी)वयस्कों में प्रोटीन की कमी के लक्षण(टी)प्रोटीन की कमी के लक्षण(टी)क्या होता है आपके शरीर में प्रोटीन की कमी कब होती है? (टी) प्रोटीन की कमी से होने वाली बीमारियों की सूची (टी) प्रोटीन की कमी से होने वाली बीमारियों के लक्षण (टी) 6 संकेत जो आप पर्याप्त प्रोटीन नहीं खा रहे हैं (टी) प्रोटीन की कमी का परीक्षण (टी) सामान्य प्रोटीन स्तर किसके लिए है एक महिला(टी)कितने समय तक प्रोटीन की कमी से उबरना है 6 संकेत आप पर्याप्त प्रोटीन नहीं खा रहे हैं(टी)क्या होता है जब आपके शरीर में प्रोटीन कम हो जाता है?(टी)शाकाहारी प्रोटीन की कमी के लक्षण

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*