सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड का पाक कनेक्शन! गोल्डी बरार को किसने दिए थे हथियार, UP के इस शख्स को पहले से पता था?

हाइलाइट्स

पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की हत्याकांड में प्रत्यक्ष रूप से पहली बार पाकिस्तानी कनेक्शन आया सामने.
पाकिस्तानी युवक ने मूसेवाला की हत्या के लिए इस्तेमाल किए गए हथियार की आपूर्ति की थी.

नई दिल्ली. पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की हत्या के मामले में अब नई जानकारी सामने आई है. राष्ट्रीय जांच एजेंसी के मुताबिक सिद्धू मूसेवाला की हत्या के लिए इस्तेमाल में किए गए हथियारों की आपूर्ति एक पाकिस्तान युवक ने किया था, जो फिलाहल दुबई में रहता है. युवक की पहचान हामिद के रूप में हुई है. नाम न छापने की शर्त पर अधिकारियों ने जानकारी देते हुए बताया कि इस हत्या के मामले में पहली बार किसी पाकिस्तानी नागरिक की सीधी भूमिका सामने आई है.

अंसारी के साथ हुई मीटिंग में हामिद ने गोल्डी बरार के साथ संबंधों का किया था जिक्र
हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक एजेंसी के अधिकारियों ने बताया कि हामिद ने मूसेवाला की हत्या से पहले दुबई में लॉरेंस बिश्नोई गिरोह के बुलंदशहर स्थित नियमित हथियार आपूर्तिकर्ता शाहबाज अंसारी से भी मुलाकात की थी. इस दौरान हामिद ने उसे बिश्नोई के कनाडा स्थित करीबी सहयोगी गैंगस्टर सतिंदरजीत सिंह उर्फ गोल्डी बरार के साथ अपने करीबी संबंधों के बारे में उसे बताया था. बता दें कि पिछले साल 29 मई को पंजाब के मनसा जिले के जवाहरके गांव में छह बदमाशों ने सिद्धू मूसेवाला की गोली मारकर हत्या कर दी थी. गोल्डी बरार ने सिद्धू मूसेवाला की हत्या की जिम्मेदारी ली थी.

फैजी खान ने अंसारी की हामिद से कराई थी मुलाकात
एनआईए ने जो दस्तावेज अदालत में पेश किया, उसके मुताबिक जांच के दौरान पता चला है कि शाहबाज अंसारी कई बार दुबई का दौर किया और इस दौरान वह पाकिस्तानी नागरिक फैजी खान के संपर्क में आया, जो दुबई में हवाला ऑपरेटर के तौर पर काम करता है. फैजी खान ने ही अंसारी को हामिद से मिलवाया था. ऐसी ही एक मीटिंग के दौरान अंसारी और हामिद ने हथियारों की तस्करी और कारोबार व भारत में हथियारों व गोला-बारूद की खेप की आपूर्ति के बारे में चर्चा की थी.

यह भी पढ़ेंः जीप से आए थे चड्डी बनियान गैंग के बदमाश, लूट की वारदातों से ‘दहल’ उठा इंदौर

हामिद ने सिद्धू मूसेवाला की हत्या के लिए हथियारों की सप्लाई पर की थी चर्चा
हिन्दुस्तान टाइम्स ने दस्तावेजों के हवाले से लिखा है कि इसी मीटिंग के दौरान हामिद ने अंसारी को यह भी बताया कि हम शुभदीप सिंह उर्फ सिद्धू मूसेवाला की हत्या के लिए गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई को असॉल्ट राइफल और अन्य हथियार की आपूर्ति करने जा रहे हैं. हामिद ने कहा कि वे गोल्डी बरार के संपर्क में हैं और उसे कई बार हथियार मुहैया कराए हैं.

हामिद ने अंसारी को सुनाई थी कॉल रिकॉर्डिंग
एनआईए के मुताबिक अपने दावे को सही साबित करने के लिए हामिद ने अंसारी को अपने फोड की रिकॉर्डिंग भी सुनाई थी, जिसमें गोल्डी बरार को हथियारों की आपूर्ति संबंधित बातचीत थी. एजेंसी ने आगे कहा है कि अंसारी और उसके मारे गए पिता कुर्बान अंसारी बिश्नोई गिरोह के लिए हथियारों का मुख्य स्त्रोत थे और यह पता चला है कि मूसेवाला की हत्या में उन्हीं हथियारों का इस्तेमाल किया गया था.

टैग: पाकिस्तान, सिधू मूस कोई नहीं

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*