इस देश में अचानक आसमान से बरसी आफत और देखते ही देखते बिछ गईं लाशें, 40 लोगों की मौत

हाइलाइट्स

देश में 9 जुलाई से लगातार हो रही है बारिश ने मचाई तबाही
भारी बारि‍श की वजह से 10,000 से ज्‍यादा लोगों ने छोड़ा अपना घर-बार
सुरंग में तैनात क‍िए 900 बचावकर्मी, 13 शव निकाले, 9 को बचाया

सियोल. दक्षिण कोरिया (South Korea) में सोमवार को लगातार नौवें दिन भारी बारिश (Heavy Rain) का कहर जारी है. भारी बारिश के कारण करीब 40 लोगों की मौत हो गई है. बचावकर्मी भूस्खलन (Landslides), तबाह मकानों और मलबे के ढेर में लोगों की तलाश कर रहे हैं.

देश में 9 जुलाई से लगातार बारिश हो रही है. भारी बारिश के कारण भूस्खलन तथा अन्य घटनाओं में कम से कम 40 लोगों की मौत हो गई है, 34 घायल हुए हैं और 10,000 लोगों को घर-बार छोड़ कर सुरक्षित स्थानों पर जाना पड़ा है. बारिश का सर्वाधिक असर दक्षिण कोरिया के मध्य तथा दक्षिणी इलाकों में पड़ा है.

चेओंगजू शहर में गोताखोरों सहित सैकड़ों बचावकर्मी मलबे से भरी सुरंग (Tunnel) में लोगों की तलाश कर रहे हैं. इस सुरंग में शनिवार शाम को अचानक बाढ़ का पानी घुसने से एक बस सहित 15 वाहन फंस गए थे.

ये भी पढ़ें- दिल्ली वालों की फिर बढ़ेगी मुसीबत! यमुना में लगातार बढ़ रहा पानी, बाढ़ से और बेहाल होगी राजधानी?

सरकार ने सुरंग में लगभग 900 बचावकर्मियों को तैनात किया है, जिन्होंने अब तक 13 शव निकाले हैं और 9 लोगों को बचाया गया है. इन लोगों का इलाज चल रहा है. अभी यह स्पष्ट नहीं है कि वाहनों में कुल कितने लोग सवार थे.

सोमवार तक बचावकर्मियों ने सुंरग से लगभग सारा पानी निकाल दिया था और अब वह खुद चल कर लोगों की तलाश कर रहे हैं. इससे एक दिन पहले वे बचावकार्यों के लिए रबर की नावों का इस्तेमाल कर रहे थे.

काउंटी कार्यालय ने बताया कि सैकड़ों आपातकालीन कर्मचारी, सैनिक और पुलिस दक्षिणपूर्वी शहर येचोन में जीवित बचे लोगों की तलाश कर रहे हैं. येचोन में नौ लोग मारे गए और आठ अन्य लापता हैं.

गृह एवं सुरक्षा मंत्रालय ने कहा कि देशभर में करीब 200 मकान और 150 सड़कें क्षतिग्रस्त या नष्ट हो गईं हैं. वहीं, 28,607 लोग पिछले कई दिनों से बिना बिजली के रह रहे हैं.

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति यून सुक येओल ने यूरोप और यूक्रेन की यात्रा से लौटने के बाद एक आपात बैठक की. उन्होंने अधिकारियों से सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्रों को विशेष आपदा क्षेत्र के रूप में घोषित करने को कहा ताकि राहत प्रयासों में आर्थिक तथा अन्य सहायता को जोड़ा जा सके.

टैग: बाढ़, दक्षिण कोरिया, विश्व समाचार हिंदी में

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*