मोदी सरकार में ISRO रच रहा इतिहास! 10 साल में कर चुका 47 लॉन्चिंग, MMS के समय 24 और ABV के कार्यकाल में 6 थी संख्या

हाइलाइट्स

ISRO ने मनमोहन सिंह सरकार के दौरान 24, अटल बिहारी वाजपेयी सरकार के दौरान छह लॉन्चिंग की थी.
पी वी नरसिम्हा राव सरकार के दौरान पांच लॉन्चिंग हुई थी.
पिछले 9 सालों में इसरो द्वारा 47 मिशन लॉन्च किए गए.

नई दिल्ली: भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने 14 जुलाई 2023 को चंद्रमा की सतह पर रोबोटिक सॉफ्ट लैंडिंग की दिशा में एक और प्रयास शुरू किया. एलवीएम-3 रॉकेट द्वारा चंद्रयान-3 अंतरिक्ष यान को पृथ्वी के चारों ओर एक कक्षा में लॉन्च करने के साथ इसरो के तीसरे चंद्रमा मिशन की शुरुआत हुई. इससे पहले 2008 और 2019 में दो मून मिशन लॉन्च हो चुके हैं. इस बार यदि इसरो के लैंडर की चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग सफल हो जाती है, तो संयुक्त राज्य अमेरिका, रूस और चीन के बाद भारत यह उपलब्धि हासिल करने वाला दुनिया का चौथा देश बन जाएगा.

द इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक साल 1969 में अपनी स्थापना के बाद से, देश की अंतरिक्ष एजेंसी इसरो ने उपग्रहों को अंतरिक्ष में ले जाने वाले कुल 89 लॉन्च मिशनों को अंजाम दिया है. इन मिशनों के विश्लेषण से पता चलता है कि नरेंद्र मोदी सरकार के तहत पिछली सभी सरकारों की तुलना में अधिक लॉन्चिंग हुई है. कोविड-19 महामारी के कारण इसरो के लॉन्च की गति धीमी होने के कारण 2020-21 के दौरान केवल कुछ ही मिशन शुरू किए जा सके. बावजूद इसके 2014 में मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से भारतीय अंतरीक्ष एजेंसी ने 4 अलग-अलग लॉन्च व्हिकल का उपयोग करके 47 मिशन लॉन्च किए हैं.

पढ़ें- VIDEO: वाह ये हुई ना बात! चंद्रयान-3 रोवर चंद्रमा पर ISRO और राष्ट्रीय प्रतीक की छोड़ेगा छाप, देखें वीडियो

पिछले 9 साल में केवल 3 मिशन असफल
इसकी तुलना में, ISRO ने मनमोहन सिंह सरकार के दौरान 24, अटल बिहारी वाजपेयी सरकार के दौरान 6 और पीवी नरसिम्हा राव सरकार के दौरान 5 मिशन लॉन्च किए थे. पिछले 9 सालों में इसरो द्वारा लॉन्च किए गए 47 मिशनों में से केवल 3 उपग्रहों को उनकी इच्छित कक्षाओं में स्थापित करने में विफलता मिली. बाकी सभी मिशन सफल रहे हैं. तीन असफल मिशनों में लघु उपग्रह प्रक्षेपण यान की पहली उड़ान, 2017 का पीएसएलवी मिशन शामिल है. इसमें नेविगेशन तारामंडल के लिए प्रतिस्थापन किया गया था, जब उपग्रह की सुरक्षा करने वाला हीट शील्ड नहीं खुला था, और 2021 जीएसएलवी मिशन जहां हाइड्रोजन टैंक में अपर्याप्त दबाव के कारण तीसरा चरण प्रज्वलित नहीं हो सका.

जबकि 22 जुलाई, 2019 को लॉन्च किए गए चंद्रयान-2 मिशन ने सफलतापूर्वक उड़ान भरी और चंद्रमा के चारों ओर एक ऑर्बिटर स्थापित किया, लेकिन यह चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग के इच्छित लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर सका. अंतरिक्ष विभाग के केंद्रीय राज्य मंत्री, जितेंद्र सिंह, अंतरिक्ष मिशनों की गति में वृद्धि का श्रेय मोदी सरकार को देते हैं. उन्होंने कहा, ‘पहले, हम सीमित जनशक्ति, सीमित संसाधनों के साथ काम कर रहे थे, दूसरों को भाग लेने की अनुमति नहीं दे रहे थे, धन आने की अनुमति नहीं दे रहे थे, सरकार इतनी बड़ी धनराशि नहीं दे सकती थी और इसलिए, एक तरह से, हम वास्तव में खुद को अक्षम कर रहे थे. लेकिन अब ऐसा नहीं हो रहा है.’

यह भी पढ़ें- भारत और चांद: इसरो की 55 वर्षों की तपस्या, अनगिनत मुश्किलें और चुनौतियां, तब जाकर लहराया परचम

ISRO ने किए हैं ये बदलाव
प्रक्षेपण वाहनों के निर्माण के लिए उद्योग साझेदारी बढ़ाने के अलावा, इसरो ने हाल के वर्षों में, मिशनों के बीच के समय को कम करने के लिए पीएसएलवी एकीकरण सुविधा स्थापित करने जैसे बदलाव भी किए हैं. इससे पहले पीएसएलवी वाहन के विभिन्न चरणों को लॉन्च पैड पर असेंबल किया जाता था. अब इसे नई सुविधा में एकीकृत किया गया है और फिर लॉन्च पैड पर लाया गया है.

मोदी सरकार के कार्यकाल में एस्ट्रोसैट नामक अंतरिक्ष दूरबीन लॉन्च की गई, जिसका डेटा दुनिया भर के वैज्ञानिक इस्तेमाल करते हैं. उपग्रह-विरोधी हथियार और पुन: प्रयोज्य प्रक्षेपण यान की स्वायत्त लैंडिंग का भी प्रदर्शन किया गया है. पहले मानवरहित गगनयान मिशन और पहले सौर आदित्य एल-1 मिशन की भी तैयारी चल रही है, जिनके इस साल लॉन्च होने की संभावना है. विदेशी उपग्रहों को प्रक्षेपण सेवाएं प्रदान करने के माध्यम से अंतरिक्ष एजेंसी द्वारा उत्पन्न राजस्व में भी वृद्धि हुई है. इसरो द्वारा लॉन्च किए गए 424 विदेशी उपग्रहों में वर्तमान व्यवस्था के तहत 389 शामिल हैं, जिसमें 2017 में एकल पीएसएलवी मिशन पर ले जाए गए 101 उपग्रह शामिल हैं.

टैग: इसरो, मोदी सरकार, अंतरिक्ष विज्ञान

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*