जब 1 स्टोरी पर बनी 2 मूवी, दोनों फिल्मों में 3 स्टार्स ने किया एक ही रोल, एक हुई ब्लॉकबस्टर

नई दिल्ली. बॉलीवुड इंडस्ट्री में यूं तो रीमेक का चलन नया नहीं है. सालों से ये चलन चलता आ रहा है. साउथ की फिल्मों का बॉलीवुड में रीमेक और बॉलीवुड की फिल्मों के साउथ में अक्सर लोगों ने देखा है. लेकिन इंडस्ट्री में कई ऐसी फिल्में भी बनी हैं, जिसमें नाम तो अलग-अलग हुए लेकिन फिल्म का कहानी सेम है. ये दोनों फिल्में साल 1980 में बनी. हैरान करने वाली बात ये है कि फिल्म की कहानी के साथ फिल्म के नाम भी सेम लेटर से शुरू हुए और तो और फिल्म में काम करने वाले 3 स्टार्स भी दोनों फिल्म में शामिल थे.

साल 1980 में जो 2 फिल्में में बनीं, उन दोनों फिल्मों के नाम का पहला अक्षर जे (J) से शुरू हुआ. ये दोनों फिल्में तेलुगु फिल्म ‘कटकटाला रुद्रैया’ की रीमेक हैं. दोनों फिल्में फिर लगभग साथ रिलीज हुईं, लेकिन एक बॉक्स ऑफिस पर बहुत अच्छा प्रदर्शन करने में सफल हुई और एक फ्लॉप साबित हुई. चलिए आपको बताते हैं कि कौन सी है ये फिल्म, जो 1980 में छठी सबसे ज्यादा कमाई करने वाली भारतीय फिल्म बनीं.

कौन सी हैं वो दो फिल्में
‘ज्योति बने ज्वाला’ और ‘ज्वालामुखी’ ये वो दो फिल्में हैं जो एक ही कहानी पर बनी. ‘मुकदर का सिकंदर’ की सुपर सफलता के बाद, प्रकाश मेहरा ने ‘ज्वालामुखी’ बनाई संयोग से उसी कहानी पर एक और फिल्म बनाई गई, इस फिल्म का नाम रखा गया ‘ज्योति बने ज्वाला’. ये फिल्म बड़ी तेजी से शुरू हुई और पूरी भी ‘ज्वालामुखी’ से पहले हो गई. भारतीय बॉलीवुड ड्रामा फिल्म ‘ज्योति बने ज्वाला’ 6 जून 1980 में रिलीज हो गई. वहीं, ‘ज्वालामुखी’ 26 दिसंबर 1980 को रिलीज हुई थी.

फिल्म ‘ज्योति बने ज्वाला’ और ‘ज्वालामुखी.

दोनों फिल्मों में 3 स्टार्स ने निभाया एक सा किरदार
दोनों ही फिल्मों में तीन कलाकारों ने सेम भूमिका निभाई. इन दोनों फिल्मों में विनोद मेहरा, वहीदा रहमान और कादर खान थे. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो फिल्म दोनों आस-पास ही शूट भी हो रही थीं. क्योंकि विनोद मेहरा ‘ज्वालामुखी’ के साथ ‘ज्योति बने ज्वाला’ में भी काम कर थे तो अक्सर प्रकाश मेहरा उनसे पूछा करते थे कि दूसरे सेट पर क्या हो रहा है? एक इंटरव्यू के दौरान विनोद ने बताया था कि जब उन्होंने ज्वालामुखी साइन की तो उन्हें अपनी भूमिका के बारे में संक्षेप में पता था. जब उन्होंने ‘ज्योति बने ज्वाला’ को साइन किया तो उन्होंने निर्णय पूरी तरह से जीतेंद्र और निर्देशक पर छोड़ दिया था.

1980 में छठी सबसे ज्यादा कमाई करने वाली भारतीय फिल्म
‘ज्योति बने ज्वाला’ पहले रिलीज हुई और फिल्म की कहानी लोगों को खूब पसंद आई. फिल्म ने अपना कुल बजट भी वसूला ही और इसके साथ ही बहुत अच्छी मात्रा में कमाई भी की ये ब्लॉकबस्टर सक्सेसफुल साबित हुई. ये 1980 में छठी सबसे ज्यादा कमाई करने वाली भारतीय फिल्म बनीं. इस फिल्म के 6 महीने बाद प्रकाश मेहरा की फिल्म रिलीज हुई लेकिन ये फिल्म लोगों को लुभा नहीं पाई.

टैग: मनोरंजन विशेष, Jeetendra, Shatrughan Sinha

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*