web site hit counter

हाइलाइट्स

जिम में जाकर इंटेंस वर्कआउट ज्यादा देर तक नहीं करना चाहिए.
ओवर एक्सरसाइज करने से मसल्स की इंजरी का शिकार हो सकते हैं.

क्या प्रति दिन जिम में 1 घंटा पर्याप्त है: एक्सरसाइज को सेहत के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है. प्रतिदिन एक्सरसाइज करने से शरीर स्वस्थ और फिट रहता है. इससे बीमारियों का खतरा भी कम हो जाता है. फिट और तंदुरुस्त रहने के लिए बड़ी संख्या में लोग जिम में जाकर वर्कआउट करते हैं. सभी उम्र के लोगों में जिम में जाकर एक्सरसाइज करने का क्रेज तेजी से बढ़ रहा है. जिम में कई तरह की मशीनें होती हैं, जिनकी मदद से एक्सरसाइज की जाती है. तमाम लोग बेहतर फिटनेस के लिए जिम में जाकर घंटों वर्कआउट करते हैं. उन्हें लगता है जितनी ज्यादा देर तक एक्सरसाइज करेंगे, शरीर को उतना ज्यादा फायदा होगा. हालांकि जरूरत से ज्यादा एक्सरसाइज नहीं करनी चाहिए. ऐसा करना सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है.

नई दिल्ली के GFFI फिटनेस एकेडमी के ट्रेनर पंकज मेहता के अनुसार सभी लोगों को जिम में प्रतिदिन 60 से 90 मिनट तक ही एक्सरसाइज करनी चाहिए. इसे एक परफेक्ट टाइम माना जा सकता है. यह इस बात पर भी डिपेंड करता है कि एक्सरसाइज लाइट है या इंटेंस. जो एक्सरसाइज इंटेंस होती हैं, उन्हें ज्यादा देर तक नहीं किया जा सकता है. अगर लाइट यानी हल्की एक्सरसाइज है, तो इंटेंस की अपेक्षा ज्यादा देर तक कर सकते हैं. इन दोनों ही कंडीशन में लोग बराबर कैलोरी बर्न कर सकते हैं और फिटनेस बेहतर बना सकते हैं. हल्की एक्सरसाइज को भी 90 मिनट से ज्यादा देर तक करने से बचना चाहिए. ओवर एक्सरसाइज करने से सेहत को नुकसान हो सकता है और आप मसल्स इंजरी और खिंचाव का शिकार हो सकते हैं.

इन बातों पर डिपेंट करती है टाइमिंग

पंकज मेहता कहते हैं कि जिम में वर्कआउट की टाइमिंग कई चीजों पर डिपेंड करती है. सबसे पहले तो यह देखा जाता है एक्सरसाइज का टाइप क्या है. इसके अलावा एक्सरसाइज की टाइमिंग लोगों की उम्र, मेडिकल कंडीशन और फिटनेस के ऊपर भी निर्भर करती है. हर किसी व्यक्ति की क्षमता अलग होती है और उसे अपनी कैपेसिटी के अनुसार ही वर्कआउट करना चाहिए. सबसे जरूरी बात यह है कि लोगों को क्वालिफाइड इंस्ट्रक्टर के दिशानिर्देशों के हिसाब से ही जिम करनी चाहिए. वे आपको वर्कआउट करने के सही तरीके और सही मूवमेंट बताएंगे. इससे आप बेहतर फिटनेस पा सकते हैं. अपनी मर्जी से एक्सरसाइज करना भी शरीर के लिए खतरनाक हो सकता है. जिम जॉइन करते वक्त आपको फिटनेस ट्रेनर से पूरी जानकारी ले लेनी चाहिए. अगर आप किसी बीमारी से जूझ रहे हैं, तो उसके बारे में जरूर बता देना चाहिए.

यह भी पढ़ें- शुगर के मरीजों के लिए चमत्कारी है यह सस्ती सब्जी, महज 5 रुपये में डायबिटीज का होगा काम-तमाम, रिसर्च में लगी मुहर

जो जिम नहीं करते, वे क्या करें?

फिटनेस ट्रेनर की मानें तो जो लोग जिम में जाकर वर्कआउट नहीं कर पाते, वे बेहतर फिटनेस के लिए घर पर एक्सरसाइज कर सकते हैं. ऐसे लोग नियमित रूप से वॉकिंग या रनिंग और स्ट्रेचिंग कर सकते हैं. हर किसी को बेहतर फिटनेस हासिल करने के लिए अपने रूटीन में रनिंग और स्ट्रेचिंग को शामिल कर लेना चाहिए. एक्सरसाइज के अलावा बेहतर फिटनेस के लिए खानपान का अहम योगदान होता है. आपको प्रोटीन से भरपूर हेल्दी डाइट लेनी चाहिए. इससे आपकी फिटनेस बेहतर हो जाएगी. अगर किसी बीमारी से जूझ रहे हैं, तो डाइट को लेकर फिटनेस ट्रेनर या डाइटिशियन से कंसल्ट जरूर कर लें.

यह भी पढ़ें- किस वक्त थायराइड की दवाई लेना सबसे ज्यादा फायदेमंद? डॉक्टर ने बताया बिल्कुल सटीक समय, हमेशा रहेगा कंट्रोल

टैग: जिम, स्वास्थ्य, जीवन शैली, ट्रेंडिंग न्यूज़

(टैग्सटूट्रांसलेट)हमें जिम में कितने घंटे वर्कआउट करना चाहिए(टी)मांसपेशियां बनाने के लिए जिम में कितने घंटे(टी)जिम में 2 घंटे बहुत ज्यादा हैं(टी)जिम में 1 घंटा काफी है(टी) जिम में कितने घंटे जिम सामान्य है (टी) प्रति दिन अधिकतम कसरत समय (टी) प्रति दिन कितना व्यायाम बहुत अधिक है (टी) बहुत अधिक व्यायाम के लक्षण (टी) प्रति दिन कितने व्यायाम बहुत अधिक है (टी) क्या अधिक व्यायाम करने से कमजोरी आती है (टी) )क्या व्यायाम के दुष्प्रभाव होते हैं

Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *