क्या गरम मसाले से बढ़ती है गैस और एसिडिटी की समस्या? किन लोगों को करता है नुकसान, क्या है सच क्या है गलत, जानें

हाइलाइट्स

कुछ लोगों का कहना है कि गरम मसाले की तासीर गर्म होती है, हालांकि यह नुकसान नहीं पहुंचाता
गरम मसाले से ब्लड प्रेशर को कंट्रोल किया जा सकता है.

गरम मसाला स्वास्थ्य लाभ और मिथक: भारत में गरम मसाले हर किचन की शान है. गरम मसाले से किसी भी फूड को स्वादिष्ट बनाया जा सकता है. लेकिन नाम के कारण कुछ लोगों को लगता है कि गरम मसाले की तासीर गर्म होती है और यह पेट में गैस, एसिडिटी और जलन को बढ़ा देता है. लेकिन लाइफस्टाइल कोच ल्यूक कॉटिन्हो के मुताबिक यह सब मिथ के सिवा कुछ नहीं है. उन्होंने कहा है कि भारतीय गरम मसाले बेशक गर्म हो लेकिन इसके बेमिसाल फायदे हैं और इससे गैस या एसिडिटी की समस्या नहीं बढ़ती है.

कॉटिन्हो ने सोशल मीडिया पर इससे संबंधित एक वीडियो पोस्ट किया है जिसमें दावा किया है कि गरम मसाले में इस्तेमाल होने वाले धनिया, जीरा, जायफल, दालचीनी, इलायची, लौंग, सौंफ, गोल मिर्च, सौंफ, सरसों दाना आदि पावरफुल स्पाइसेज हैं और इसके कई सारे फायदे हैं.

क्या गैस, एसिडिटी बढ़ाता है गरम मसाला

ल्यूक कॉटिन्हो ने बताया है कि आयुर्वेद हमारे देश में चिकित्सा विज्ञान का बहुत बड़ा वरदान है. उन्होंने कहा, “कुछ लोगों का कहना है कि गरम मसाले की तासीर गर्म होती है, जो पेट में गर्मी पैदा करता है और इससे गैस और एसिडिटी की समस्या भी होती है. यह बात मिथ के सिवा और कुछ नहीं है. बेशक यह गर्म हो लेकिन हमें गर्म फूड की जरूरत होती है. अगर कुछ लोगों को गरम मसाला नुकसान पहुंचाता है तो इसके कुछ और कारण होंगे लेकिन सामान्यतया हेल्दी व्यक्ति को गरम मसाले से नुकसान नहीं होता.”

गरम मसाले के फायदे

ल्यूक कॉटिन्हो बताते हैं कि पेट में गैस या अपच जैसी गलत धारणाओं के बजाय गरम मसाले डाइजेशन को और अधिक बेहतर बनाता है. गरम मसाले में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स पेट में गैस्ट्रिक जूस को रिलीज करने में मदद पहुंचाते हैं. लौंग और जीरा ऐसी चीज है जो अपच को दूर करते हैं. कुछ लोगों को कहना है कि जिन लोगों को पेट में एसिड की समस्या है, उन्हें गर्म चीजें नहीं खानी चाहिए. लेकिन यदि आप भी ऐसा करते हैं तो आप बहुत बड़ी गलती कर रहे हैं. गरम मसाल डाइजेस्टिव सिस्टम के लिए बेहतर होता है और डाइजेस्टिव एंजाइम को बढ़ाता है जिससे फूड को तोड़ने और उससे पोषक तत्वों को निकालने में मदद करता है. इतना ही नहीं यह ब्लॉटिंग की समस्या को भी दूर करता है.

लिवर, किडनी से टॉक्सिन भी निकालता है

गरम मसाला में फायटोन्यूट्रेंट्स पाया जाता है जो मेटाबोलिज्म को बूस्ट करता है. इससे फैट को बर्न करने में भी मदद मलिता है. यानी गरम मसाला वजन कम करने में भी कारगर है. इसके साथ ही गरम मसाले में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स स्किन की समस्या को दूर करते हैं और इंफ्लामेशन को होने नहीं देता. इतना ही नहीं गरम मसाला किडनी और लिवर को डिटॉक्स कर उनमें से टॉक्सिन को भी फ्लश आउट करने में माहिर है. अगर किसी को सांस की बदबू है तो लौंग और दालचीनी बेहद कारगर साबित हो सकता है.

किसे नहीं खाना चाहिए गरम मसाला

गरम मसाला से कोई नुकसान नहीं है. ज्यादा खाने पर हर चीज नुकसान पहुंचा सकती है. अगर किसी को पहले से कुछ समस्याएं हैं और डॉक्टर ने मना कर रखा हैं तो गरम मसाला न खाएं. बाकी कोई खास कारण नहीं है.

इसे भी पढ़ें-जवानी में बाल हो रहे हैं सफेद, तुरंत शुरू कर दें ये 5 काम, रूक जाएगा हेयर का ग्रे होना, ये देखें लिस्ट

इसे भी पढ़ें-बारिश के मौसम में इन 5 सब्जियों को भूलकर भी हाथ न लगाएं, अंदर ही अंदर आंतों को सड़ा देंगे ये, ये है इसका कारण

टैग: स्वास्थ्य, स्वास्थ्य सुझाव, जीवन शैली

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*