बॉलीवुड की 3 कल्ट क्लासिक फिल्मों का बनने जा रहा है रीमेक, नई कास्ट और ट्विस्ट का लगेगा तड़का, यहां जानें नाम

नई दिल्ली. बॉलीवुड में कई ऐसी सदाबहार फिल्में बनी हैं जो सालों बाद भी लोगों के दिलों पर कब्जा किए हुए हैं. इन फिल्मों को आप चाहे कितनी बार भी क्यों न देख लें, आपका दिल नहीं भरेगा और यही वजह है कि इन फिल्मों को कल्ट क्लासिक का दर्जा दिया गया है. आज ऐसी ही 3 सदाबहार फिल्मों के ऑफिशियल हिंदी रीमेक की घोषणा की गई है. ये तीन फिल्में 70 के दशक की ऑल टाइम फेवरेट फिल्मों की लिस्ट में शामिल- ‘मिली’, ‘कोशिश’ और ‘बावर्ची हैं.

ये तीनों फिल्में हिंदी सिनेमा में मास्टरपीस मानी जाती हैं. 1972 में रिलीज हुई फिल्म ‘कोशिश’ में जया बच्चन और संजीव कुमार मुख्य भूमिका में नजर आए थे और इसका निर्देशन गुलजार साहब ने किया था. इस फिल्म के लिए संजीव कुमार और गुलजार साहब को नेशनल अवॉर्ड भी मिला था.

वहीं ‘मिली’ देख आज भी दर्शकों की आंखें नम हो जाती हैं. इस फिल्म में अमिताभ बच्चन और जया बच्चन ने लीड रोल अदा किया था. इस फिल्म का निर्देशन ऋषिकेश मुखर्जी द्वारा किया गया था. जया  बच्चन और राजेश खन्ना की एवरग्रीन फिल्म ‘बावर्ची’ का निर्देशन भी ऋषिकेश मुखर्जी ने ही किया था.

सोशल मीडिया पर की घोषणा-
हाल ही में रिलीज हुई राधिका आप्टे की फिल्म ‘मिसेज अंडरकवर’ की डायरेक्टर अनुश्री मेहता ने आज सोशल मीडिया पर इन तीन फिल्मों के रीमेक की घोषणा की. वह लिखती हैं, “ अबीर सेनगुप्ता और मेरी कंपनी ‘जादूगर फिल्म्स’ एसआरएस प्रोडक्शंस के समीर राज सिप्पी के साथ मिलकर इन तीनों फिल्मों का रीमेक बनाने जा रही है”.

फिल्मों में लगाएंगे नया तड़का-
सोशल मीडिया पर एक और बयान साझा करते हुए अबीर और अनुश्री कहते हैं, “ हम अपनी ऑल टाइम फेवरेट फिल्मों का एक नए रूप और सांचे में रीमेक बनाने के लिए काफी उत्साहित हैं. यह एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी है क्योंकि ‘कोशिश’, ‘बावर्ची’ और ‘मिली’ को देश ही नहीं, बल्कि दुनियाभर में काफी पसंद किया जाता है.  ये वो फिल्में हैं जिन्हें देखकर हम बड़े हुए हैं और ये वो कहानियां हैं जिन्हें नई पीढ़ी को भी देखना चाहिए. हम उम्मीदों, जिम्मेदारी पर खरा उतरने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास करेंगे और सबसे जरूरी बात यह है कि इन फिल्मों का ऐसा रीमेक बनाया जाएगा जो दूर-दूर तक दर्शकों के दिलों पर छा जाएं”.

टैग: Amitabh bachchan, Jaya bachchan, Rajesh khanna, संजीव कुमार

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*