यशस्वी जायसवाल के लिए नंबर-3 किसी चुनौती से कम नहीं, रोहित और कोहली तक यहां नहीं कर सके खास प्रदर्शन

नई दिल्ली. युवा बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल को वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले टेस्ट में मौका दिया जा सकता है. भारत और वेस्टइंडीज के बीच 2 मैचों की टेस्ट सीरीज 12 जुलाई बुधवार से शुरू हो रही है. 21 साल के यशस्वी को नंबर-3 पर उतारा जा सकता है. इस नंबर पर भारत की ओर से राहुल द्रविड़ और चेतेश्वर पुजारा काफी सफल रहे हैं, लेकिन खराब प्रदर्शन के चलते पुजारा टीम से बाहर हो चुके हैं. नंबर-3 की बात करें, तो यह काफी कठिन जगह मानी जाती है क्योंकि बैटर को कभी नई बॉल से तो कभी पुरानी गेंद से खेलना पड़ता है. रोहित शर्मा से लेकर विराट कोहली तक इस नंबर पर उतर चुके हैं, लेकिन वे भी प्रभाव नहीं छोड़ सके.

यशस्वी जायसवाल ने रणजी ट्रॉफी के बाद आईपीएल 2023 में भी कमाल का प्रदर्शन किया था. राजस्थान रॉयल्स और मुंबई की ओर से यशस्वी को कोचिंग दे चुके हैं पूर्व क्रिकेटर अमोल मजूमदार ने कहा कि वह तकनीकी रूप से हो या मानसिक रूप से, टीम इंडिया में अपनी छाप छोड़ने को तैयार है. उन्होंने कहा कि मैंने महसूस करता हूं कि जब कोई बल्लेबाज इंटरनेशनल लेवल पर खेलता है, तो वह कम अनुभवी होना चाहता हैं, क्योंकि इससे आप समय के साथ सीखते हैं और छोटी-छोटी चीजों पर ध्यान देते हैं, जो अधिक मायने रखती है. घरेलू क्रिकेट में बहुत अधिक समय बिताने की बजाय इंटरनेशनल लेवल पर खेलते हुए सीखना अधिक प्रभावी होता है.

सही समय पर मिला है मौका
अमोल मजूमदार का मानना ​​​​है कि यशस्वी जायसवाल को सही समय टीम इंडिया की ओर से खेलने का मौका मिला है, क्योंकि उसने खेल के उतार-चढ़ाव का अनुभव किया है और अच्छे फॉर्म में भी है. लंबे फॉर्मेट में उसने थोड़ा संघर्ष भी किया. क्योंकि अंडर-19 वर्ल्ड कप के बाद 2020-21 सीजन उसे रेड बॉल क्रिकेट खेलने का मौका नहीं मिला. 2022 में उसे ग्रुप राउंड से नहीं बल्कि नॉकआउट राउंड से मौका दिया गया.

3 शतक से बढ़ा आत्मविश्वास
रणजी ट्रॉफी के क्वार्टर फाइनल में यशस्वी जायसवाल ने उत्तराखंड के खिलाफ शतक ठोका. फिर सेमीफाइनल में उप्र के खिलाफ दोनों पारियों में शतक जड़े. बेहतरीन खेल के दम पर उन्हें दलीप ट्रॉफी में मौका मिला. यहां यशस्वी ने वेस्ट जोन की ओर से खेलते हुए फाइनल में साउथ जोन के खिलाफ 265 रन की शानदार पारी खेली थी. इसके बाद ईरानी कप दोनों पारियों में शतक जड़ा. पहली पारी में उन्होंने बेहतरीन 213 रन बनाए थे.

ICC World Cup: पाकिस्तान को वर्ल्ड कप खेलना ही होगा, वजह- 283 करोड़ रुपये और चैंपियंस ट्रॉफी की मेजबानी

द्रविड़ ने 10 हजार से अधिक रन बनाए
टीम इंडिया की ओर से टेस्ट में नंबर-3 के बैटर के प्रदर्शन को देखें, तो वर्तमान कोच और पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ ने सबसे अधिक 10501 रन बनाए. 28 शतक और 50 अर्धशतक जड़ा. वहीं चेतेश्वर पुजारा ने 18 शतक के दम पर 6529 रन बनाए. रोहित शर्मा भी 4 टेस्ट की 5 पारियों में नंबर-3 पर उतरे, लेकिन वे 107 रन ही बना सके. औसत 21 का रहा. वहीं विराट कोहली 6 पारियों में नंबर-3 पर सिर्फ 97 रन ही जोड़ सके. ऐसे में यशस्वी जायसवाल के सामने वेस्टइंडीज के गेंदबाज कड़ी चुनौती पेश कर सकते हैं.

टैग: भारत बनाम वेस्टइंडीज, टीम इंडिया, यशस्वी जयसवाल

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*