महागठबंधन के विधायकों को क्या कहकर अलर्ट कर रहे नीतीश, 200 करोड़ का क्या है कनेक्शन?

हाइलाइट्स

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जदयू विधायक दल की बैठक में विधायकों को दी नसीहत.
भाजपा के प्रलोभन से जदयू विधायकों को बचकर रहने की नीतीश कुमार ने दी सलाह.
महागठबंधन के विधायकों-नेताओं को भी CM नीतीश ने भाजपा से बचने की सलाह दी.

पटना. बिहार में सियासी हलचल के बीच सोमवार को मानसून सत्र की शुरुआत हो गई है. पांच दिनों की अल्प अवधि वाले इस सत्र के पहले दिन ही जिस तरह से राजनीति गर्माई उसने आने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर बिहार के सियासी तापमान के संकेत दे दिए हैं. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सत्र के पहले दिन दो बैठकों को संबोधित किया और अपने संबोधन के दौरान उन्होंने न केवल अपने दल के विधायकों को बल्कि सहयोगी दलों के विधायकों को भी साफ-साफ इशारा किया कि बीजेपी बिहार में भी ‘खेल’ करना चाहती है और इससे सावधान रहने की जरूरत है.

नीतीश कुमार जब महागठबंधन के विधायकों को संबोधित कर रहे थे तब उन्होंने बीजेपी को लेकर विधायकों को सावधान रहने की नसीहत दी. उन्होंने कहा कि अगर BJP मजबूत हुई तो नुकसान सभी का होगा. चाहे कुछ भी कर ले बिहार में BJP की दाल हमलोग गलने नहीं देंगे. बीजेपी के किस नीति से देश और बिहार को क्या नुकसान होगा और किस तरह से BJP देशवासियों को गुमराह कर रही है. मुख्यमंत्री ने कहा कि बीजेपी का कोई भी मंसूबा सफल नहीं होने देना है.

वहीं, मुख्यमंत्री ने बैठक के दौरान बीजेपी से महागठबंधन के विधायकों को बचने को लेकर जो सबसे बड़ा बयान दिया वे बेहद महत्वपूर्ण है. इसकी जानकारी भाकपा माले के विधायक संदीप सौरभ ने बैठक के बाद दी. CPI ML विधायक संदीप सौरभ ने कहा कि मुख्यमंत्री ने कुछ विधायकों को नसीहत दी कि बीजेपी षडयंत्र कर रही है और इस षडयंत्र में नहीं फंसना है. इसका उदाहरण भी मुख्यमंत्री ने देते हुए बताया कि बीजेपी बिहार से बाहर दूसरे राज्यों के एमएलए को 100 करोड़ तक का ऑफर दे रही है, हमारे बिहार के विधायकों को भी 200 करोड़ तक का लालच बीजेपी दे सकती है. लेकिन विधायकों को बीजेपी की चाल में फंसना नहीं है. बीजेपी तो पहले ही विधायकों पर गिद्ध दृष्टि लगा रखी है.

वहीं, सोमवार की शाम में जदयू विधायक दल की बैठक में भी नीतीश कुमार ने संबोधन के दौरान आगाह करते हुए कहा कि जदयू विधायकों को बीजेपी से सावधान रहना है. बीजेपी इतिहास बदलना चाहती है. बीजेपी ने कुछ भी विकास का काम नहीं किया है. बीजेपी ने अपर कास्ट के साथ-साथ पिछड़ों के लिए भी कुछ नहीं किया है. हमारी पार्टी में सारी जाति के लोग हैं, मैंने सबको बराबर समझा है.

नीतीश कुमार ने आगे कहा कि मैंने उपेन्द्र कुशवाहा, जीतनराम मांझी और आरसीपी सिंह के लिए क्या नहीं किया, लेकिन इन लोगों को देखिए क्या किया? बीजेपी की चाल में फंस गए. लेकिन, बीजेपी के मंसूबों को आगे सफल नहीं होने देना है. आगे से जो भी फैसला मैं लूंगा आप लोगों से पूछ कर लूंगा. अब गलती नहीं होगी.

वहीं, बैठक से बाहर निकलने के बाद मंत्री जमा खान ने कहा हमलोगों को लड़ाई थोड़ी लंबी लड़नी होगी. पूरे देश की निगाहें बिहार पर हैं, महागठबंधन पर हैं. सबको एकजुट होकर तैयारी करनी है और लड़ाई लड़नी है. समय से पहले चुनाव हो सकता है और हमलोग इसके लिए तैयार हैं. हमारा गठबंधन और हमारे नेता नीतीश कुमार जी हमेशा तैयार हैं. हमलोग हर तरह से मजबूती से लड़ाई लड़ने के लिए तैयार बैठे हैं.

टैग: बिहार के समाचार, बिहार की राजनीति, सीएम नीतीश कुमार, जेडीयू खबर, Mahagathbandhan, मानसून सत्र

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*