Tagenarine chanderpaul: 12 साल पहले जहां पिता बना था भारत की जीत का रोड़ा, वहीं बेटा उतरने को तैयार, क्या इतिहास दोहरा पाएगा?

हाइलाइट्स

भारत और वेस्टइंडीज के बीच पहला टेस्ट 12 जुलाई से खेला जाएगा

नई दिल्ली. रोहित शर्मा की अगुआई वाली टीम इंडिया इस समय वेस्टइंडीज दौरे पर है. दोनों देशों के बीच पहला टेस्ट 12 जुलाई से डोमिनिका में खेला जाएगा. भारतीय टीम इससे पहले 2011 में जब वेस्टइंडीज गई थी तब भारत ने यहां टेस्ट खेला था. इसके बाद भारत यहां दूसरा टेस्ट खेलने जा रहा है. 12 साल पहले डोमिनिका में जीत के करीब पहुंचकर टीम इंडिया के हाथ खाली रह गए थे. उस समय भारत और जीत के बीच रोड़ा बने थे वेस्टइंडीज के पूर्व दिग्गज बैटर शिवनारायण चंद्रपॉल. उन्होंने तब डोमिनिका टेस्ट की दूसरी पारी में शतक ठोका था और भारत को जीत से महरूम कर दिया था. इस बार भी वेस्टइंडीज टीम में उनके बेटे तेगनारायण हैं, जो टीम इंडिया के लिए अड़चन बन सकते हैं.

तेगनारायण चंद्रपॉल को भारत के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिए वेस्टइंडीज की टीम में चुना गया है और उनके डोमिनिका टेस्ट में खेलने की पूरी संभावना है. तेगनारायण ने पिछले साल दिसंबर में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट डेब्यू किया था. उन्होंने अबतक 6 टेस्ट में 1 शतक और एक अर्धशतक की मदद से 453 रन बनाए हैं. तेगनारायण ने अपने पहले ही शतक को डबल सेंचुरी में तब्दील किया था. उन्होंने जिम्बाब्वे के खिलाफ 207 रन ठोके थे. उनके पिता शिवनारायण ने भी टेस्ट में दोहरा शतक ठोका था.

शिवनारायण के शतक के कारण भारत टेस्ट नहीं जीत पाया
शिवनारायण चंद्रपॉल ने 2011 में डोमिनिका में खेले गए टेस्ट में कमाल की पारी खेली थी और मैच को ड्रॉ करा दिया था. उस टेस्ट में वेस्टइंडीज ने पहले बल्लेबाजी की थी और 204 रन बनाए थे. इसके जवाब में भारतीय टीम ने पहली पारी में 347 रन का स्कोर खड़ा किया था. तत्कालीन कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने 74 रन की पारी खेली थी. इस तरह भारत ने 143 रन की बढ़त हासिल की थी.

ODI World Cup 2023: पाकिस्तान में वर्ल्ड कप को लेकर कलह, चिठ्ठी ने चढ़ाया सियासी पारा, PM शाहबाज तक पहुंची बात

भारतीय गेंदबाजों ने दूसरी पारी में भी अच्छी शुरुआत की थी और वेस्टइंडीज के तीन विकेट जल्दी-जल्दी गिरा दिए थे. इसके बाद शिवनारायण चंद्रपॉल ने अंगद की तरह अपने पैर जमा लिए थे और नाबाद 116 रन ठोके थे. उनके अलावा कर्क एडवर्ड्स ने भी शतक जमाया था. वेस्टइंडीज ने दूसरी पारी में 322 रन बनाए थे और 5वें दिन भी बल्लेबाजी की थी. भारत को जीत के लिए 180 रन का लक्ष्य मिला था. लेकिन टीम इंडिया के पास इस टारगेट को हासिल करने के लिए कम ओवर थे. टीम इंडिया ने 3 विकेट खोकर 94 रन ही बनाए और ये मैच ड्रॉ रहा था. इस तरह शिवनारायण चंद्रपॉल भारत की जीत की राह में रोड़ा साबित हुए थे.

टैग: भारत बनाम वेस्टइंडीज, म स धोनी, टीम इंडिया

(टैग्सटूट्रांसलेट)टैगेनारिन चंद्रपॉल(टी)टैगेनारिन चंद्रपॉल कौन हैं(टी)वेस्टइंडीज का भारत दौरा(टी)शिवनारायण चंद्रपॉल(टी)टीम इंडिया का वेस्टइंडीज दौरा(टी)शिवनारायण चंद्रपॉल(टी)शिवनारायण चंद्रपॉल ने डोमिनिका टेस्ट में भारत के खिलाफ शतक लगाया (टी) 2011 भारत का वेस्टइंडीज दौरा (टी) शिवनारायण चंद्रपॉल बनाम भारत (टी) शिवनारायण चंद्रपॉल टेस्ट रिकॉर्ड (टी) टेजेनरीन चंद्रपॉल टेस्ट डेब्यू (टी) भारत बनाम वेस्टइंडीज (टी) पहले टेस्ट के लिए वेस्टइंडीज टीम (टी) क्रिकेट हिंदी में समाचार(टी)क्रिकेट समाचार(टी)तेगनारायण चंद्रपाल(टी)शिवनारायण चंद्रपाल(टी)भारत बनाम वेस्टइंडीज

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*