IND vs WI: 13 साल पहले किया टेस्ट डेब्यू, झटके सिर्फ 3 विकेट, फिर क्यों टीम इंडिया गेंदबाज को दे सकती है मौका?

डोमिनिका. टीम इंडिया रोहित शर्मा की कप्तानी में एक और टेस्ट सीरीज खेलने को तैयार है. भारत और  वेस्टइंडीज के खिलाफ बुधवार 12 जुलाई से 2 टेस्ट मैचों की सीरीज शुरू हो रही है. पहले मैच की बात करें, तीसरे तेज गेंदबाज के लिए जयदेव उनादकट, मुकेश कुमार और नवदीप सैनी में भिड़ंत देखने को मिलेगी. कप्तान रोहित और कोच राहुल द्रविड़ के लिए फैसला करना आसान नहीं रहेगा. उनादकट ने 13 साल पहले 2010 में टेस्ट डेब्यू किया था. वे अब तक 2 टेस्ट में 3 ही विकेट ले सके हैं. लेकिन बाएं हाथ के गेंदबाज उनादकट ने घरेलू क्रिकेट में कमाल का प्रदर्शन किया है. ऐसे में उनकी दावेदारी अधिक मजबूत मानी जा रही है.

पहला टेस्ट विंडसर पार्क में होगा, जहां अब तक 5 टेस्ट, 4 वनडे और 4 टी20 इंटरनेशनल के मुकाबले खेले गए हैं. मैदान पर अंतिम टेस्ट मैच 2017 में खेला गया था, जिसमें पाकिस्तान ने 3 दिन के अंदर 101 रन से जीत दर्ज की थी. वेस्टइंडीज ने यहां केवल एक टेस्ट मैच जीता है और वह भी जिम्बाब्वे की कमजोर टीम के खिलाफ. ऐसे में क्रेग ब्रेथवेट की अगुवाई वाली टीम के लिए यहां का रिकॉर्ड अच्छा नहीं कहा जा सकता. मैदान पर खेले गए अंतिम टेस्ट में पाकिस्तान के तेज गेंदबाजों मोहम्मद आमिर, हसन अली और मोहम्मद अब्बास ने 11 विकेट लिए थे जबकि लेग स्पिनर यासिर शाह ने दोनों पारियों में मिलाकर 8 विकेट अपने नाम किए थे.

जडेजा और अश्विन का खेलना तय
आर अश्विन और रवींद्र जडेजा का खेलना तय है. शार्दुल ठाकुर अपने बल्लेबाजी कौशल और इंग्लैंड में वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में शानदार प्रदर्शन के कारण मोहम्मद सिराज के साथ तेज गेंदबाजी विभाग का जिम्मा संभालेंगे. भारत के पास स्पिन विभाग में अक्षर पटेल भी हैं, जो जडेजा की तरह ऑलराउंडर हैं. टीम हालांकि 3 तेज गेंदबाजों के साथ उतर सकती है. नवदीप सैनी ने अपनी लय हासिल कर ली है और वह अपनी गति में कटौती किए बिना लंबे स्पेल कर सकते हैं. धीमी पिच पर ड्यूक गेंद से वह उपयोगी साबित हो सकते हैं.

रणजी ट्रॉफी में अच्छा प्रदर्शन करने वाले जयदेव उनादकट ने हाल में बांग्लादेश के खिलाफ 12 साल बाद अपना दूसरा टेस्ट मैच खेला था. उनकी बाएं हाथ की तेज गेंदबाजी दाएं हाथ के बल्लेबाजों को परेशानी में डाल सकती है. बंगाल के 29 वर्षीय तेज गेंदबाज मुकेश का दावा भी कमजोर नहीं है. उन्होंने पिछले तीन सत्रों में अपने खेल में काफी सुधार किया है और वह नई गेंद का अच्छा इस्तेमाल कर सकते हैं.

ICC वर्ल्ड कप 2003 को लेकर पाकिस्तान का बड़ा आरोप, कहा- भारत में रोजाना दंगे, हम खिलाड़ियों को कैसे…

जयदेव उनादकट के फर्स्ट क्लास के प्रदर्शन को देखें, तो उन्होंने 101 मैच में 382 विकेट लिए हैं. यानी 31 साल के खिलाड़ी के पास बड़ा अनुभव है. 39 रन देकर 8 विकेट बेस्ट प्रदर्शन है. 22 बार 5 और 5 बार 10 विकेट लिया है.

टैग: भारत बनाम वेस्टइंडीज, Jaydev unadkat, टीम इंडिया

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*