बंगाल पंचायत चुनाव: ग्राउंड जीरो पर हिंसा खुद देख राज्यपाल बोले- हम गरीबी को खत्म करने के बजाय गरीबों को मार रहे

कोलकाता. पश्चिम बंगाल में शनिवार को हुए पंचायत चुनावों (panchayat polls) के बीच दिन भर कानून और व्यवस्था के हालात का जायजा लेने के बाद राज्यपाल सीवी आनंद बोस (CV Ananda Bose) ने साफ कहा कि उन्होंने ‘क्षेत्र में जो देखा वह बहुत परेशान करने वाला है.’ बंगाल के पंचायत चुनावों में हुई भारी हिंसा (violence) को खुद देखने के बाद राज्य की एक गंभीर तस्वीर पेश करते हुए उन्होंने शाम को एक प्रेस वार्ता में कहा कि ‘वहां हिंसा है, वहां हत्या हुई है…वहां फोर्स है, धमकी है. हमें गरीबी को मारना चाहिए. इसके बजाय, हम गरीबों को मार रहे हैं. यह वह नहीं है जो बंगाल चाहता है. समाज में शांति की कमी अगली पीढ़ी को प्रभावित करेगी.’

राज्यपाल सीवी आनंद बोस ने कहा कि ‘राजनीति होनी चाहिए, लेकिन मैं हिंसा को राजनीति के दायरे से बाहर निकालना चाहता हूं.’ उन्होंने कहा कि ‘मेरी हिंसा और आपकी हिंसा नाम की कोई चीज नहीं है. हिंसा तो हिंसा है.’ कई हिंसा प्रभावित इलाकों का दौरा करने के बाद राज्यपाल ने कहा कि यह ‘बहुत सुखद स्थिति नहीं है. हिंसा के अपराधी हत्या चाहते हैं, वे भुखमरी चाहते हैं, वे गोलियां चाहते हैं. हमें युद्ध छेड़ने के बजाय शांति कायम करना सीखना चाहिए.’ उत्तर 24 परगना जिले के एक अस्पताल में भर्ती हुए कुछ घायलों से मिलने के बाद बोस ने राज्य चुनाव आयुक्त राजीव सिन्हा से अपने संवैधानिक कर्तव्यों का निर्वहन करने का आग्रह किया.

उन्होंने कहा कि ‘मुझे बताया गया कि हत्याएं हो रही हैं, गोलियों की आवाजें आ रही हैं, लोगों को पीट-पीटकर मार डाला जा रहा है. हां, ये छिटपुट मामले हैं, लेकिन खून-खराबा वाला एक भी मामला हम सभी के लिए चिंता का विषय होना चाहिए. यह लोकतंत्र के लिए सबसे पवित्र दिन है, जहां सड़क पर आम आदमी को संविधान के अनुसार वोट देने का अधिकार दिया जाता है. चुनाव बिना हिंसा के होने चाहिए. जब भी मुझे शिकायतें मिलीं, मैंने इसे सक्षम अधिकारियों- यानी राज्य चुनाव आयुक्त को भेज दिया है. पूरी निष्पक्षता से, मैं कह सकता हूं कि मुझे उनसे तुरंत जवाब मिलता है.’

राज्यपाल सीवी आनंद बोस ने कहा कि ‘मैं सुबह से ही मैदान में हूं…रास्ते में लोगों ने मेरा काफिला रोक दिया. उन्होंने मुझे अपने आसपास हो रही हत्याओं के बारे में बताया, गुंडों के उन्हें मतदान केंद्रों पर नहीं जाने देने के बारे में बताया… इससे हम सभी को चिंता होनी चाहिए. यह लोकतंत्र के लिए सबसे पवित्र दिन है… चुनाव बुलेट से नहीं बल्कि बैलेट से होना चाहिए.’ उत्तर 24 परगना के बैरकपुर शहर का दौरा करने के बाद बोस ने कदम्बागाछी इलाके में मतदान केंद्रों का दौरा किया और फिर नादिया जिले में कल्याणी का दौरा किया.

टैग: पश्चिम बंगाल में हिंसा, पश्चिम बंगाल चुनाव, पश्चिम बंगाल चुनाव समाचार, पश्चिम बंगाल की राजनीति

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*