VIDEO: जब श्मशानघाट में आई बाढ़, जलती चिता छोड़ भागे 130 ग्रामीण, छत पर चढ़कर बचाई जान

ऊना. हिमाचल प्रदेश में जमकर मॉनसून (हिमाचल में मानसून) बरस रहा है. आलम यह है कि जानमाल का भारी नुकसान हो रहा है. सूबे के ऊना (एक बारिश) जिले में भी तेज बारिश हुई है. यहां पर चढ़तगढ़ के ग्रामीणों के लिए बारिश आफत लेकर आई. मामला गुरुवार का है. अंतिम संस्कार को गए करीब 130 ग्रामीण चढ़तगढ़ स्थित स्वर्गधाम में आई बाढ़ में फंस गए. ग्रामीण जान बचाने के लिए जलती हुई चिता को छोड़कर छत पर चढ़ गए.

इतना ही नहीं, एकाएक पानी का स्तर इतना बढ़ गया कि चिता पर भी पानी फिर गया. मामले की जानकारी मिलते ही एसडीएम ऊना विश्वदेव मोहन चौहान मौके पर पहुंचे और दमकल विभाग की मदद से पानी में फंसे ग्रामीणों को सुरक्षित बाहर निकाला गया.

दरअसल, जिला ऊना के गांव चढ़तगढ़ में अंतिम संस्कार को गए लोग खड्ड से घिरे स्वर्गधाम में फंस गए थे. देखते ही देखते खड्ड ने रौद्र रूप धारण कर लिया और खड्ड का पानी स्वर्गधाम के भीतर जा घुसा, जिसके चलते लोग अपनी जान बचाने को छत पर चढ़ गए और जल रही चिता भी बरसाती पानी में घिर गई.

जानकारी के मुताबिक, बीमारी के चलते चढ़तगढ़ निवासी सुखराम की गुरुवार सुबह मौत हो गई. दोपहर बाद जैसे ही अंतिम संस्कार के लिए स्वर्गधाम जाने लगे, तो तेज बारिश शुरू हो गई. बारिश के थमने के बाद करीब 125 से 130 ग्रामीण अंतिम संस्कार के लिए स्वर्गधाम चढ़तगढ़ पहुंच गए. अंतिम संस्कार की पूरी प्रक्रिया करने के बाद चिता को मुखाग्रि दी गई, जिसके कुछ देर बाद ही एकाएक आए बरसाती पानी ने स्वर्गधाम चढ़तगढ़ को अपनी चपेट में ले लिया और स्वर्गधाम में करीब 5 से 6 फुट पानी भर गया. एकाएक स्वर्गधाम में पानी भरने के चलते जहां चिता पर पानी फिर गया.

वहीं ग्रामीणों को जान बचाने के लिए चिता को छोड़कर साथ लगती छत पर चढ़ना पड़ा, लेकिन स्वर्गधाम को जाने वाले मार्ग पर काफी फुट पानी जमा रहा. ग्रामीणों ने स्वर्गधाम से भरा पानी निकालने के लिए दीवारे भी तोड़ दी, लेकिन पानी का स्तर कम नहीं हुआ. ग्रामीणों ने मामले की जानकारी डीसी ऊना राघव शर्मा को दी और इसके बाद डीसी ऊना राघव ने एसडीएम ऊना विश्व देव मोहन चौहान को मौके पर भेजा. स्थानीय वासी जीपू थिंड ने बताया कि इस स्वर्गधाम में जाने के लिए पहले भी ऐसी समस्या पेश आती रही है और इसके बारे कई दफा प्रशासन को भी बताया जा चुका है.

रास्ते को जेसीबी की मदद से खुलवाया: SDM

एसडीएम ने मौके पर पहुंचकर तुंरत ही स्वर्गधाम को जाने वाले रास्ते को जेसीबी की मदद से खुलवाया. करीब डेढ़ से दो घंटे तक चले रेस्क्यू अभियान के बाद सभी ग्रामीणों को सुरक्षित बाहर निकाला गया. एसडीएम ऊना विश्व देव मोहन चौहान ने बताया कि मामले की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंचे और दमकल विभाग के कर्मियों व जेसीबी मशीन की मदद से सभी ग्रामीणों को निकाला गया.

टैग: बाढ़ की चेतावनी, भारी बारिश और बादल फटना, Himachal pradesh, मौसम चेतावनी

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*