Home India मौसम बिगड़ने से दूसरे दिन भी अमरनाथ यात्रा स्थगित, हजारों तीथयात्री फंसे,...

मौसम बिगड़ने से दूसरे दिन भी अमरनाथ यात्रा स्थगित, हजारों तीथयात्री फंसे, जानें शिविरों में क्या है हाल

65
0
Advertisement

जम्मू/श्रीनगर. बारिश और भूस्खलन के कारण अमरनाथ यात्रा लगातार दूसरे दिन शनिवार को भी स्थगित रही. इससे जम्मू समेत यात्रा के विभिन्न स्थानों पर हजारों तीर्थयात्री फंस गये. केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने तीर्थयात्रियों को आश्वस्त किया कि वरिष्ठ अधिकारी स्थिति पर नजर रखे हुए हैं और उन्होंने श्रद्धालुओं से अनुरोध किया कि वे घबराएं नहीं व समय-समय पर अधिकारियों द्वारा जारी निर्देशों का पालन करें.

प्रधानमंत्री कार्यालय में केंद्रीय राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने ट्वीट किया, ‘‘मैंने व्यक्तिगत रूप से उत्तरी कमान के सैन्य कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल (उपेंद्र) द्विवेदी और अमरनाथ श्राइन बोर्ड के सीईओ (मुख्य कार्यकारी अधिकारी) डॉ. मंदीप भंडारी से बात की है. दोनों वरिष्ठ अधिकारी स्वयं स्थिति पर नजर रखे हुए हैं.’’ जम्मू-कश्मीर के बड़े हिस्से में बृहस्पतिवार रात से भारी बारिश हो रही है, जबकि महागुन टॉप और अमरनाथ गुफा मंदिर के आसपास के इलाकों सहित कई ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी हुई है. कुछ स्थानों पर जुलाई में 24 घंटों की अवधि में रिकॉर्ड बारिश दर्ज की गई.

खराब मौसम के कारण यात्रा पहलगाम और बालटाल में रुकी
एक अधिकारी ने कहा, ‘‘खराब मौसम के कारण यात्रा पहलगाम और बालटाल दोनों मार्गों से दूसरे दिन भी निलंबित रही. एक पुलिस अधिकारी ने ‘न्यूज एजेंसी’ से कहा, ‘घाटी में यात्रा स्थगित होने और खराब मौसम के मद्देनजर आज सुबह भगवती नगर आधार शिविर से यात्रियों के किसी भी नए जत्थे को (जाने की) अनुमति नहीं दी गई.’ जम्मू के संभागीय आयुक्त रमेश कुमार ने कहा कि जम्मू क्षेत्र में लगभग 15,000 तीर्थयात्री फंसे हुए हैं और उन्होंने पांच जिलों के उपायुक्तों को आवास क्षमता बढ़ाने और आपातकालीन संचालन केंद्रों (ईओसी) को सक्रिय करने का निर्देश दिया है.

कहां कितने तीर्थयात्रियों को रोका गया
जम्मू और रामबन जिलों में लगभग 6000-6000 लोगों, सांबा में 1200, कठुआ में 1100 और उधमपुर जिलों में 600 लोगों को ‘यात्री निवास’ में ठहराया गया है. मौसम विभाग ने कहा कि रविवार को जम्मू-कश्मीर के अधिकांश इलाकों में रुक-रुक कर हल्की से मध्यम बारिश जारी रहने की संभावना है, लेकिन जम्मू संभाग के कुछ स्थानों पर भारी से अति भारी बारिश की संभावना है. मौसम विभाग ने मॉनसूनी हवाओं और पश्चिमी विक्षोभ के कारण 10 से 14 जुलाई तक बादल छाए रहने की संभावना जताई है. शाम या सुबह के समय कुछ स्थानों पर रुक-रुक कर गरज के साथ बारिश होगी.

Advertisement

उपराज्यपाल ले रहे पल पल की खबर
एक प्रवक्ता ने कहा कि यात्रा के लिए पंजीकरण और टोकन का वितरण रविवार को दूसरे दिन भी निलंबित रहेगा. जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कहा कि यात्रियों की सुरक्षा अत्यंत महत्वपूर्ण है और सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त हैं. सिन्हा ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हर दिन दो बार यात्रा की समीक्षा की जाती है. हम प्रति घंटा रिपोर्ट लेते हैं. मुझे उम्मीद है कि कल से मौसम में सुधार होगा और यात्रा फिर से शुरू हो सकेगी.

80,000 से अधिक तीर्थयात्री कर चुके दर्शन
दक्षिण कश्मीर हिमालय में 3,888 मीटर की ऊंचाई पर स्थित इस गुफा मंदिर की 62 दिवसीय वार्षिक तीर्थयात्रा एक जुलाई को अनंतनाग जिले के पहलगाम और गांदरबल जिले के बालटाल से शुरू हुई, जो 31 अगस्त को समाप्त होगी. अब तक 80,000 से अधिक तीर्थयात्री पवित्र गुफा मंदिर में दर्शन कर चुके हैं. देरी से तीर्थयात्री परेशान नहीं.

तीर्थयात्री बोले, दर्शन किए बिना नहीं लौटेंगे
तीर्थयात्री जम्मू में और जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर चंद्रकोट सहित विभिन्न स्थानों पर फंसे हुए थे, जो कई भूस्खलनों और पंथियाल सुरंग के पास सड़क के एक हिस्से के बह जाने के बाद यातायात के लिए बंद कर दिया गया था. उत्तर प्रदेश के कानपुर निवासी दीपू ने भगवती नगर आधार शिविर में न्यूज एजेंसी को बताया, ‘‘मुझे आज (शनिवार) यात्रा में शामिल होने के लिए घाटी के लिए रवाना होना था, लेकिन राजमार्ग बंद होने और मौसम के कारण आगे की यात्रा की अनुमति नहीं मिली.’’ कई दोस्तों के साथ आए दीपू ने कहा कि वे मौसम साफ होने का इंतजार करेंगे और अपनी यात्रा पूरी करेंगे. उन्होंने कहा, ‘‘हम यहां ‘बाबा बर्फानी’ के बुलाने पर आए हैं और दर्शन किए बिना वापस नहीं जाएंगे.’’

मध्य प्रदेश की मनीषा बाबा के दर्शन को और करेंगी इंतजार
मध्य प्रदेश निवासी मनीषा ने कहा कि वह बहुत उम्मीदों के साथ दर्शन के साथ आई हैं और घर वापसी पर विचार करने से पहले वह अगले हफ्ते तक इंतजार करेंगी. श्रद्धालुओं को बालटाल और नुनवान आधार शिविरों पर भी रोका गया. क्षेत्र में भारी बारिश के बाद यात्रा बालटाल यात्रा मार्ग पर भूस्खलन हुआ है, लेकिन किसी तरह के जानमाल के नुकसान की खबर नहीं है. गाजियाबाद (उप्र) निवासी सूरज शर्मा ने कहा कि वह आधार शिविर में तीर्थयात्रियों के लिए स्थानीय प्रशासन द्वारा की गई व्यवस्था से संतुष्ट हैं. उन्होंने कहा, ‘‘हम यात्रा के लिए निकल चुके हैं और हम इसे पूरा करने जा रहे हैं, भले ही इसके लिए महीनेभर इंतजार करना पड़े.’’

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम
अधिकारियों ने शनिवार को कहा कि अमरनाथ यात्रियों के लिए सुरक्षित मार्ग सुनिश्चित करने के वास्ते सेना जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर हर रोज विशेष क्षेत्रों में ड्रोन, निगरानी उपकरण और खोजी कुत्तों के साथ गश्त कर रही है. एक वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारी ने बताया, ‘‘श्रद्धालुओं के लिए सुरक्षित यात्रा सुनिश्चित करने के वास्ते सेना जम्मू से बनिहाल और उससे आगे तक यात्रा के समूचे मार्ग पर गहन गश्त लगा रही है.’’ उन्होंने कहा कि सुरक्षा को लेकर इस तरह का एहतियात आतंकवादियों को राष्ट्रीय राजमार्ग पर आने और तीर्थयात्रियों के काफिले को निशाना बनाने से रोकने में मदद करेगा.

टैग: Amarnath Yatra, जम्मू कश्मीर समाचार, श्रीनगर समाचार

(टैग्सटूट्रांसलेट) खराब मौसम के कारण अमरनाथ यात्रा स्थगित कर दी गई है। जम्मू कश्मीर समाचार बालटाल समाचार महगुन शीर्ष अमरनाथ गुफा मंदिर जम्मू कश्मीर नवीनतम समाचार अमरनाथ यात्रा अपडेट अमरनाथ यात्रा 2023 जम्मू मौसम अपडेट(टी)जम्मू समाचार(टी)जम्मू और कश्मीर समाचार(टी)जम्मू कश्मीर मौसम(टी)जम्मू कश्मीर समाचार(टी) मनोज सिन्हा (टी) जम्मू और कश्मीर के उपराज्यपाल (टी) भारतीय सेना (टी) नरेंद्र मोदी (टी) जम्मू और कश्मीर का मौसम (टी) जम्मू कश्मीर का मौसम अपडेट (टी) जम्मू और कश्मीर (टी) जम्मू कश्मीर (टी) जम्मू और कश्मीर में मौसम (टी) जम्मू और कश्मीर में मौसम और जलवायु (टी) जम्मू कश्मीर समाचार आज (टी)। ) कश्मीर मौसम अपडेट (टी) अमर नाथ यात्रा (टी) अमर नाथ यात्रा अपडेट (टी) अमर नाथ यात्रा 2023 (टी)जम्मू मौसम अपडेट(टी)जम्मू समाचार(टी)जम्मू और कश्मीर समाचार

Source link

Previous articleभारतीय सिनेमा का सबसे दूरदर्शी हीरो, जो भांप लेते थे भविष्य की चाल, एक दुर्भाग्य ने छीन लिया चमकता सितारा
Next articleनए रंग में दिखी वंदेभारत ट्रेन, आपको भी खूब पसंद का आएगा अनोखा रूप, देखें VIDEO

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here