क्या आपको पता है आम खाने का सही तरीका क्या है? अगर नहीं, तो आएं यहां और जानें

अंजलि सिंह राजपूत/लखनऊ. गर्मियों का मौसम आते ही जो सबसे पहला नाम दिमाग में आता है वो आम का होता है. इन दिनों आम का सीजन चल रहा है. दशहरी से लेकर लंगड़ा और चौसा आम तक लोगों की पहली पसंद बना हुआ है. इस मौसम में लोग आम खाने से खुद को रोक नहीं पाते हैं, लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जिन्हें आम खाने के तुरंत बाद चेहरे और शरीर पर फोड़े और फुंसी की दिक्कत हो जाती है. यह समस्या बेहद आम है. लगभग 50 से 60 प्रतिशत लोगों को आम खाने के बाद फोड़े-फुंसी शरीर और चेहरे पर हो जाते हैं.

ऐसे में जरूरी है कि उस तरीके को अपनाया जाए जिसके जरिये आप आम का पूरा स्वाद भी ले सकें और आपकी त्वचा को किसी भी तरह का कोई नुकसान न हो. इस पर उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल लोकबंधु के त्वचा रोग विशेषज्ञ डॉक्टर विमल सिंह ने बताया कि आम खाने के बाद हमेशा से देखा गया है बच्चों में खास तौर पर फोड़े निकलना और दाने जैसी दिक्कतें सामने आती हैं. यह दिक्कतें बड़ों में भी होती है, खास तौर पर लड़कियों में आम खाने के बाद चेहरे पर दाने होने की बात सामान्य है. ऐसे में कुछ लोग होते हैं जो डर कर आम खाना छोड़ देते हैं, लेकिन एक तरीका है जिसे अपना कर वो आम का पूरा स्वाद भी ले सकते हैं और उन्हें किसी भी तरह की दिक्कत नहीं होगी.

इस तरीके को अपनाकर देखें

डॉक्टर विमल सिंह ने बताया कि आम खाने से पहले उसे कम से कम आधा या एक घंटा पानी के अंदर डाल कर छोड़ दें. इसके बाद, उसे पानी से निकाल कर फ्रिज में रख दें. इससे आम की जो गर्मी होगी वो निकल जाती है. आम ठंडा होने पर उसे खाने पर चेहरे या शरीर पर दाने निकलने जैसी समस्या नहीं होगी.

इस तरह खाने से बचें आम

त्वचा रोग विशेषज्ञ ने बताया कि कुछ लोग होते हैं जो आम तुरंत खरीद कर उसे धो कर खाना शुरू कर देते हैं. कम ही लोग जानते हैं कि आम में गर्मी होती है, जो पेट के अंदर जाते ही चेहरे पर दाने या फोड़े की समस्या को पैदा करती ही है. साथ ही, कुछ लोग ऐसे भी होते जिनका पेट भी इस तरह आम खाने से खराब हो जाता है. इसलिए जरूरी है कि डॉक्टर या स्वास्थ्य विशेषज्ञ के द्वारा बताई हुई तकनीक को अपना कर आम खाएं.

टैग: भोजन 18, स्थानीय18, लखनऊ समाचार, ऊपर समाचार हिंदी में

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*