इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी में इस सत्र से 10 नए मल्टीडिसीप्लिनरी कोर्सेज, देखिये पूरी लिस्ट

प्रयागराज. पूरब का ऑक्सफोर्ड कहे जाने वाले इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी में इस सत्र से 10 नए मल्टीडिसीप्लिनरी कोर्स शुरू किए जा रहे हैं. पीएम नरेंद्र मोदी के फ्लैगशिप कार्यक्रम न्यू एजुकेशन पॉलिसी के तहत यूनिवर्सिटी प्रशासन ने नए कोर्सेज तैयार किए हैं. हालांकि, इस सत्र से सिर्फ 7 कोर्सेज में प्रवेश शुरू होगा, जबकि अन्य कोर्सेज में अगले सत्र से प्रवेश दिया जाएगा.

इन कोर्सेज में पांच वर्षीय बीसीए और एमसीए, एमएससी कॉग्निटिव साइंस, बीएससी एंड एमएससी फैमिली एंड कम्युनिटी साइंस, 5 ईयर इंटीग्रेटेड कोर्स इन डिजास्टर मैनेजमेंट एंड एनवायरमेंटल स्टडीज, बीए एलएलबी ऑनर्स 5 ईयर इंटीग्रेटेड लॉ कोर्स, 5 ईयर एमबीए कोर्स शामिल है। इसके अलावा म्यूजिक, स्पोर्ट्स, एनसीसी, एलिमेंट्स ऑफ द कॉन्स्टिट्यूशन, मेंटल हेल्थ, फाइनेंशियल मार्केट, डिस्कवरी साइंस एंड टेक्नोलॉजी, फिल्म एंड थियेटर और थिरैपिय्टिक न्यूट्रीशन एंड योगा में प्रोफिशिएंसी कोर्स भी शुरू किए जा रहे हैं. इसके साथ ही यूरोपीय भाषाओं फ्रेंच, रशियन और जर्मन प्रोफिशिएंसी कोर्स और प्राच्य भाषाओं उर्दू, संस्कृत और अंग्रेजी में भी नए कोर्स शुरू किए जा रहे हैं.

इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी की कुलपति प्रो संगीता श्रीवास्तव के मुताबिक न्यू एजुकेशन पॉलिसी के तहत तैयार किए गए कोर्सेज से छात्र-छात्राएं शिक्षित होने के साथ ही साथ स्किल्ड होंगे और उनका चारित्रिक विकास भी होगा. प्रोफेसर संगीता श्रीवास्तव के मुताबिक यूनिवर्सिटी में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाने के लिए कई कदम उठाए गए हैं. उनके मुताबिक, पिछले 2 वर्षों में मिशन मोड में 27 विभागों में विश्वविद्यालय में नए शिक्षकों की भर्ती की गई है. इसके अलावा 350 नॉन टीचिंग कर्मचारियों की भी तैनाती की गई है, जबकि लगभग डेढ़ सौ एसोसिएट प्रोफेसर और प्रोफेसर के पदों पर भर्ती की प्रक्रिया चल रही है.

कुलपति ने कहा है कि इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी में पिछले कई वर्षों से शिक्षकों की भारी कमी थी, लेकिन मिशन मोड में 300 शिक्षकों की भर्ती की गई है. कुलपति प्रोफेसर संगीता श्रीवास्तव के मुताबिक यूनिवर्सिटी में देश के 25 प्रदेशों के शिक्षकों की नियुक्ति की गई है. जबकि 15 देशों में विभिन्न फेलोशिप के तहत पढ़ाई या शिक्षण कर रहे भारतीय नागरिकों को भी बतौर शिक्षक यूनिवर्सिटी में तैनाती दी गई है.

कुलपति प्रोफेसर संगीता श्रीवास्तव के मुताबिक यूनिवर्सिटी ने विदेश से शिक्षकों की भर्ती करके एक तरह से रिवर्स माइग्रेशन भी किया है. उन्होंने कहा है कि विभिन्न प्रदेशों और विदेशों में शिक्षा से जुड़े प्रोफेसर के यूनिवर्सिटी ज्वाइन करने से यहां पर कॉस्मो पॉलिटन एटमास्फियर बना है, जिससे आने वाले दिनों में विश्वविद्यालय की शिक्षा की गुणवत्ता में और सुधार होगा. उन्होंने दावा किया है कि साल के अंत तक कम से कम 100 और शिक्षकों की नियुक्ति हो जाएगी. जिसके बाद विश्वविद्यालय निश्चित तौर पर एनआईआरएफ और नैक की रैंकिंग में भी जरूर स्थान बनाएगा.

टैग: इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय, इलाहबाद समाचार, इलाहबाद विश्वविद्यालय, यूपी खबर, ऊपर समाचार हिंदी में

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*