घरेलू क्रिकेट का ‘रनवीर’ टीम इंडिया के इतने करीब होकर भी दूर, नजरअंदाज होने पर कैसे मिलता है हौसला बताया

नई दिल्‍ली. बंगाल के अभिमन्‍यु ईश्‍वरन (Abhimanyu Easwaran) ऐसे बल्‍लेबाज हैं, जिन्‍हें घरेलू क्रिकेट में लगातार अच्‍छा प्रदर्शन करने के बावजूद भारत की टेस्‍ट टीम में स्‍थान नहीं मिल पा रहा है. ओपनर के तौर पर ईश्‍वरन ने इंडिया-ए की ओर से भी छह शतकों के साथ 34 पारियां में 47.27 के औसत से रन बनाए लेकिन वेस्‍टइंडीज दौरे के लिए रेड बॉल टीम (Indian squad for West Indies tour) में ऋतुराज गायकवाड़ और यशस्‍वी जायसवाल उन पर भारी पड़े. ईश्‍वरन फिर अपनी बारी का इंतजार कर रहे.

लगातार उपेक्षा से किसी खिलाड़ी का मनोबल टूटना स्‍वाभाविक है लेकिन अभिमन्‍यु ईश्‍वरन ने हिम्‍मत नहीं हारी है. वे इसे चुनौती के तौर पर लेते हुए घरेलू क्रिकेट में नए सीजन की तैयारी में जुटे हैं.

ईश्‍वरन ने Espncricinfo के साथ विशेष बातचीत में क्रिकेट में अपने संघर्ष और खेल से जुड़े विभिन्‍न पहलुओं पर खुलकर बात की.

इस सवाल कि इंडीज दौरे की भारतीय टीम (Team india) में न चुने जाने पर कैसा लगा, उन्‍होंने कहा, ‘जब भी चीजें इच्‍छा के मुताबिक नहीं होतीं तो मैं बस यही सोचता हूं कि मैंने गेम खेलना क्यों शुरू किया. मैंने क्रिकेट खेलना इसलिए शुरू किया क्योंकि मैं इसका मजा लेता हूं और देश के लिए खेलना चाहता हूं.अगर मुझे किसी टीम में नहीं चुना जाता तो इससे मेरे खेल के प्रति जुनून या आगे बढ़ने के लिए कड़ी मेहनत पर असर नहीं पड़ता. देश के लिए खेलने और मैच जीतने का सपना मुझे मुझे प्रेरित करता रहेगा.’

सिर्फ टेस्‍ट नहीं, हर फॉर्मेट का क्रिकेेट खेलना चाहता हूं

बड़े मैचों के लिए तैयारियों के बारे में उन्‍होंने कहा, ‘अच्‍छी तैयारी जरूरी है. मुझे लगता है कि अगर मैं अच्छी तरह से तैयार हूं तो आत्मविश्वास के साथ मैदान में उतरता हूं. मैं दलीप ट्रॉफी मैच से पहले जल्दी बैंगलोर पहुंच गया और जस्ट क्रिकेट अकादमी में दस दिनों तक उसी तरह विकेट पर ट्रेनिंग की जिस पर मुझे यहां खेलना था.’ ईश्‍वरन ने साफ किया कि वे हर फॉर्मेट का क्रिकेट खेलना चाहते हैं. उन्‍होंने कहा, ‘यह धारणा बन गई है कि मैं खालिस टेस्‍ट क्रिकेट का बैटर बनना चाहता हूं, इसमें सच्‍चई नहीं है, मैं हर फॉर्मेट खेलना चाहता हूं.’

पोंटिंग से बात करने का ज्‍यादा मौका नहीं मिला

इस सवाल कि आईपीएल 2023 में दिल्‍ली कैपिटल्‍स के हेड कोच रिकी पोंटिंग से बात करने का मौका मिला, ईश्‍वरन ने बताया कि ऑस्‍ट्रेलियाई दिग्‍गज के पूरे ग्रुप के साथ बिजी होने के कारण बातचीत का ज्‍यादा समय नहीं मिला लेकिन वे नेट के पीछे रहकर हमारा खेल देखते थे.

इस सवाल कि आप कब टीम इंडिया में चुने जाने के काफी करीब पहुंचकर भी वंचित रह गए थे, उन्‍होंने कहा,’टेस्‍ट सीरीज के ठीक पहले, मैंने पिछले दिसंबर में बांग्‍लादेश में भारत ए के लिए दो शतक बनाए थे. 2021 में भी दक्षिण अफ्रीका के दौरे में मैंने भारत ए की ओर से शानदार प्रदर्शन किया था. मुझे लगता है कि 2021 में इंग्‍लैंड में चुने जाने के सबसे करीब था. मैं रिजर्व ओपनर था.’

टैग: क्रिकेट, भारत बनाम वेस्टइंडीज, टीम इंडिया

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*