web site hit counter

हरिकांत शर्मा/ आगरा. आगरा के नामनेर की रहने वाली राशि कनौजिया का सलेक्शन इंडियन वुमन क्रिकेट टीम में हुआ है. इंडिया टीम में सिलेक्शन पाकर उन्होंने इतिहास रच दिया है. भारतीय क्रिकेट टीम में जगह बनाने वाली राशि कन्नौजिया शहर की पांचवीं खिलाड़ी बन गई है. उनसे पहले हेमलता काला ,प्रीति डिमरी, पूनम यादव और दीप्ति शर्मा भारतीय महिला क्रिकेट टीम का हिस्सा बन चुकी है.बांग्लादेश दौरे के लिए भारतीय महिला क्रिकेट टीम में ऑलराउंडर दीप्ति शर्मा को भी चुना गया है.

राशि के सलेक्शन के बाद परिवार में बेहद खुशी है. राशि ने कहा है कि बरसों की मेहनत सफल हो गई. अगर मौका मिला तो खुद को साबित करके दिखाऊंगी.बेंगलुरु में नेशनल क्रिकेट एकेडमी में 13 जून से चल रहे भारतीय महिला क्रिकेट टीम के शिविर में हिस्सा ले रही थी. इसी दौरान उनका सिलेक्शन भारतीय महिला टीम में हुआ है .वह ऑर्थोडॉक्स स्पिनर हैं. राशि वेस्टर्न रेलवे में जूनियर क्लर्क के पद पर मुंबई में तैनात है .

तंग गलियों से निकलकर रचा इतिहास पिता हुए भावुक

तंग छोटी गलियों से निकलकर इंडियन वुमन क्रिकेट टीम तक का सफर तय करना राशि के लिये आसान नही था. सामान्य घर से ताल्लुक रखने वाली राशि कन्नौजिया 8 साल की उम्र से क्रिकेट खेल रही है. आज इनका सपना उस वक्त पूरा हुआ जब उनका सिलेक्शन भारतीय महिला क्रिकेट टीम में हुआ.घर मे खुशी का माहौल है .परिजनों को यकीन नहीं हो रहा है उसकी लाडली का सपना साकार हो गया है. सलेक्शन की खबर सुनकर पिता भावुक हो गए.

पिता को नहीं पसंद था स्पोर्ट्स के छोटे कपड़े पहनना

राशि कनौजिया के सेलेक्शन की ख़बर सुनकर उनके पिता अशोक कुमार भावुक हो गए . राशि के पिता अशोक कुमार भारतीय सेना से रिटायर हैं. 2017 में वह इलेक्ट्रिशियन की पोस्ट से रिटायर्ड हुए फ़िलहाल वे कपड़ों पर स्त्री करने का काम करते हैं. एक समय था जब क्रिकेट की ट्रेनिंग के लिए राशि एकलव्य स्पोर्ट्स स्टेडियम जाया करती थी .आसपास का माहौल ठीक नहीं था .पिता को चिंता रहती थी. पिता ने राशि के स्पोर्ट्स निक्कर पहनने पर एतराज जताया था. क्योंकि उनकी चिंता जायज थी. उन दिनों क्रिकेट में लड़कियों की ज्यादा संख्या नहीं थी. आसपास का माहौल ठीक नहीं था .बाप को बेटी की चिंता लगी रहती थी. लेकिन जब बेटी का सिलेक्शन हुआ तो पिता भावुक हो गए.

बस अब टीवी पर खेलते हुए देखने की है तमन्ना

मां राधा कनौजिया का सपना साकार हो गया .उनकी बेटी ने वह कर दिखाया जिसकी उन्हें उम्मीद थी. राधा कन्नौजिया कहती है कि कई बार लोग तंज कसते थे कि बेटियों को घर में रहने दिया जाए, आसपास का माहौल ठीक नहीं. लेकिन पेशे से टीचर राशि की मां ने सभी बेटी की हिम्मत को हारने नहीं दिया. 8 साल की उम्र में क्रिकेट खेलने के लिए आगरा एकलव्य स्पोर्ट्स स्टेडियम में भर्ती करवाया. उसके बाद प्राइवेट कोचिंग के लिए एकेडमी भी भेजा .राधा कनौजिया का कहना है कि राशि के चयन में कई लोगों का योगदान है. अब उनका बस यही सपना है कि राशि दिन रात मेहनत करें .अच्छा क्रिकेट खेले और पूरे परिवार के साथ वह उसे टीवी पर देखें .आने वाले 9 जुलाई को क्रिकेट मैच शुरू हो रहे हैं. अपनी बेटी को TV पर खेलते देखने की लालसा है.

टैग: आगरा समाचार, क्रिकेट खबर, स्थानीय18

Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *