16 की उम्र में घर से भागे, कभी सिक्योरिटी गॉर्ड बने, कभी कपड़े की दुकान पर किया काम, ओटीटी से मिली नई पहचान

एक्टर बनने का सपना लेकर ना जाने कितने लोग मुंबई आते हैं, इनमें से कुछ लोगों का तो ये सपना पूरा भी हो जाता है. लेकिन सिर्फ एक्टिंग की दुनिया में चांस मिलना ही काफी नहीं है. करियर में आगे बढ़ने के लिए काम मिलना भी हर एक्टर के लिए एक बड़ा चैलेंज होता है. अमित साध भी एक ही एक एक्टर हैं, जिन्होंने फिल्मी दुनिया में आने से पहले गार्ड की नौकरी तक की है.

01

टीवी, फिल्में और ओटीटी पर भी अपनी एक्टिंग का जलवा दिखा चुके एक्टर अमित साध आज किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं. इन दिनों वह हर प्लेटफॉर्म पर काफी पॉपुलर हैं. ऑनस्क्रीन बेहद कूल नजर आने वाले अमित ने रियल लाइफ में काफी स्ट्रगल किया है. बेहद कम उम्र में ही उन्होंने सपना पूरा करने के लिए घर छोड़ दिया था. कभी कपड़ों की दुकान में काम किया तो कभी सिक्योरिटी गार्ड बनकर उन्होंने हर वो काम किया जिससे उन्हें अपना सपना पूरा करने की राह मिल रही थी. (फोटो साभार:Instagram@theamitsadh)

02

हाल ही में अपने एक इंटरव्यू में अमित साध ने बताया कि अपने सांवले रंग की वजह से वह बचपन में किसी से भी बात नहीं करते थे. छोटी सी उम्र में ही उनके पिता जी की मौत हो गई. हमेशा से गुस्सैल स्वभाव का था क्योंकि कभी पेरेंट्स ने मुझ पर ध्यान ही नहीं दिया. यही वजह थी कि 16 साल की उम्र में ही वह घर से भाग गए थे. 4 बार सुसाइड अटेम्प्ट किया लेकिन फिर जिंदगी में कुछ कर दिखाने की चाह ने जिंदगी में आगे बढ़कर कुछ कर दिखाने की राह दिखाई. (फोटो साभार:Instagram@theamitsadh)

03

अपनी बातचीत में एक्टर ने बताया कि घर से भागने के बाद उन्होंने जवाहरलाल स्टेडियम के सामने लोधी कॉलोनी में एक बरसाती में 3 लोगों के साथ रहना पड़ा था. कॉलोनी के पीछे एक कपड़े की दुकान पर उन्होंने 900 रुपए महीने की सैलरी पर नौकरी भी की. दुकान के मालिक ने उन्हें शू की एक कंपनी के शोरूम में जॉब के लिए ट्राई करने की सलाह दी थी. शोरूम में भी उन्होंने सेल्समैन का काम किया और 2800 रुपए सैलेरी मिलती थी. एक्टिंग लाइन में आने से पहले उन्होंने काफी संघर्ष किया है. (फोटो साभार:Instagram@theamitsadh)

04

अमित साध के दोस्तों ने उन्हें एक्टर बनने की सलाह दी थी. काम करने के दौरान थिएटर के कुछ लोगों से दोस्ती हो गई. शाहरुख खान साहब के ब्रदर-इन-लॉ और आदित्य लुम्बा मेरे दो बेस्ट फ्रेंड थे, जो मुंबई एक्टर बनने के लिए जा रहे थे. मैंने भी एक्टिंग के बारे में सोचा और कि एक्टिंग जरूर करूंगा. फिर मैंने एक बाइक खरीदी और पुणे एक्टिंग कोर्स करने के लिए चला गया. इसके बाद ही मैं मुंबई आया था. मुंबई आकर एक महीना ही हुआ था कि मुझे अपनी बाइक बेचनी पड़ी. मुंबई आने के बाद नीना गुप्ता के सीरियल ‘क्यों होता है प्यार’ में मुझे पहली बार काम मिला था. (फोटो साभार:Instagram@theamitsadh)

05

टीवी और फिल्मों के बाद अमिता ने पहली बार आर.माधवन के साथ ब्रीद में काम किया. ये उनकी पहली वेब सीरीज थी. उस समय लोगों ने मजाक उड़ाया कि यह तो फ्लॉप एक्टर है. इसकी फिल्में नहीं चली तो कैरेक्टर आर्टिस्ट बन गया. यह क्या वेब सीरीज करेगा, लेकिन जब इस वेब सीरीज आई तो लोगों को मेरे टैलेंट के बारे में पता चला कि मैं कैसा एक्टर हूं. इस सीरीज की सफलता के बाद मैंने सीरीज जिद और अवरोध में भी काम कियाय इसके बाद मुझे लीड रोल मिलने लगे. ये कहना गलत नहीं होगा की ओटीटी के जरिए मुझे नई पहचान मिली है. (फोटो साभार:Instagram@theamitsadh)

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*