हर रोज वॉक करते हैं 6 हजार कदम, फिर भी नहीं घट रहा है वजन, क्या है कारण, डॉक्टर से जानें सारी बात

हाइलाइट्स

सिर्फ पसीना बहाना मोटापा कम करने के लिए जरूरी नहीं.
मोटापा कम करने के लिए हर रोज 7 से 8 घंटे की नींद जरूरी है.

वजन घटाने के लिए पैदल चलना: हेल्दी लाइफ के लिए मोटापा बहुत बड़ा दुश्मन बनकर उभरा है. पूरी दुनिया इस समस्या से परेशान है. WHO के मुताबिक पूरी दुनिया में करीब 2 अरब लोग ज्यादा वजन के शिकार हैं. मोटापा कई बीमारियों की वजह है. जब शरीर में चर्बी बढ़ता है तो यह कई बीमारियां पनपने लगती है. यह अप्रत्यक्ष रूप से डायबिटीज, हार्ट डिजीज, किडनी और लिवर डिजीज के जोखिम को बढ़ाता है. हालांकि मोटापे के लिए कई चीजें जिम्मेदार है लेकिन सबसे ज्यादा गतिहीन जीवनशैली और गलत खान-पान इसके लिए जिम्मेदार है.

इन शारीरिक परेशानियों को लोग अपने आप में सुधार लाकर दुरुस्त कर सकता है. इसके लिए कहा जाता है कि रोजाना 6 हजार कदम चलने से कुछ ही महीने में मोटापा कम होने लगता है. पर बहुत से लोगों की यह शिकायत रहती है कि हर रोज 6 हजार कदम चलने के बावजूद उनका वजन कम नहीं हो पाता है. आखिर इसके पीछे क्या वजह हो सकती है. इस विषय पर हमने सर गंगाराम अस्पताल में इंस्टीट्यूट ऑफ गैस्ट्रोएंटरोलॉजी एंड पेनक्रिएटिक बिलीएरी साइंसेज के कंसल्टेंट डॉ. श्रीहरि अनिखिंडी से बात की.

क्या हो रही गलतियां
डॉ. श्रीहरि अनिखिंडी कहते हैं कि अगर कोई यह सोचता है कि खूब पसीना बहाकर या खूब एक्सरसाइज कर या रोजाना 6 हजार कदम चल कर मोटापा कम कर लें, तो आमतौर पर यह संभव नहीं है. उन्होंने कहा कि एक मिथ है कि सिर्फ एक्सरसाइज से वजन घट सकता है. वजन घटाने के लिए के लिए कई चीजों को एक साथ मैनेज करना पड़ता है. डॉ. अनिखिंडी ने कहा, वजन बढ़ने के लिए मुख्य रूप से तीन कारण जिम्मेदार होते हैं. ज्यादा कैलोरी वाली चीजें या अनहेल्दी फूड का सेवन, कोई एक्सरसाइज नहीं करना और पर्याप्त नींद न लेना. दरअसल, वजन कम करने के लिए इन्हीं चीजों को कंट्रोल करना है. इसके लिए हमें दो तरीके से अपने आप में बदलाव लाना होगा.

पहला क्वाटिटिव चेंज यानी मात्रात्मक परिवर्तन और दूसरा है क्वालिलिटिव चेंजेज यानी गुणात्मक परिवर्तन. मात्रात्मक परिवर्तन में हमें अपनी डाइट को कम करनी है यानी हम पहले जितना खाते था उसमें कम से कम एक चौथाई कम करना है. इसके अलावा एक्सरसाइज को बढ़ाना है और डाइट में हेल्दी चीजों को शामिल करना है. क्वालिलिटिव चेंजेज में पर्याप्त नींद लेनी है और स्ट्रेस फ्री लाइफ जीना है, कोई तनाव नहीं लेना है.

ये सुधार जरूरी

1. हेल्दी डाइट-मोटापे के लिए अनहेल्दी फूड जिम्मेदार है. यानी आपने अब तक बहुत ज्यादा तेल, घी, डिप फ्राई वाली बाहर की चीजें खाई हैं. बहुत ज्यादा चीनी वाली चीजें खाई हैं. इसलिए अब फास्ट फूड, जंक फूड यानी पिज्जा, बर्गर, डेयरी प्रोडक्ट चीज, बटर और जिन चीजों में आर्टिफिशियल चीनी मिली हो, उसे खाना छोड़ दें. इनकी जगह प्लांट बेस्ड फूड खाएं. यानी साबुत अनाज, मोटा अनाज, हरी सब्जियां, ताजे फल, मछली, बादाम और बेजिटेबल ऑयल आदि का सेवन करें. भोजन में प्रोटीन का सेवन बढ़ाएं.

2. ब्रिस्क एक्सरसाइज-सिर्फ पसीना बहाना मोटापा कम करने के लिए जरूरी नहीं. इसके लिए ब्रिस्क एक्सरसाइज करें. रोजाना 45 से 1 घंटे की ब्रिस्क एक्सरसाइज जरूरी है. इसमें यदि आप पैदल चलते हैं तो आपकी स्पीड कम से कम 6 किलोमीटर प्रति घंटे होनी चाहिए. अगर आप रनिंग करते हैं तो यह और अच्छा है. इसके साथ ही साइक्लिंग, स्विमिंग करें

3. योगा-योगा से भी मोटापे को कम किया जा सकता है. योगा उन व्यक्तियों के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद है जो ज्यादा स्ट्रेस में रहते हैं. इसके लिए मेडिटेशन भी फायदेमंद है.

4.पर्याप्त नींद-मोटापा कम करने के लिए हर रोज 7 से 8 घंटे की नींद जरूरी है. पर्याप्त और सुकून की नींद वजन कम करने के लिए जरूरी है.

इसे भी पढ़ें-क्या डायबिटीज मरीजों को अचार नहीं खाना चाहिए? क्या इससे बढ़ जाता है ब्लड शुगर, एक्सपर्ट से जानिए हकीकत

इसे भी पढ़ें-इन 5 खतरनाक फूड को जिंदगी से कर देंगे बाहर तो कभी नहीं बढ़ेगा ब्लड शुगर, हेल्थ के लिए दुश्मन हैं ये, देखें लिस्ट

टैग: स्वास्थ्य, स्वास्थ्य सुझाव, जीवन शैली

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*