5 संकेत बताते हैं कि लिवर की सेहत पर बढ़ रहा है बोझ, खोखला न हो यकृत, इससे पहले कर लें सुधार

हाइलाइट्स

लगातार कई दिनों से बहुत ज्यादा थकान हो तो यह लिवर डैमेज के संकेत हो सकते हैं.
जब पेट में अक्सर दर्द रहने लगे तो यह लिवर डैमेज का संकेत हो सकता है.

लिवर ख़राब होने के लक्षण: लिवर हमारे शरीर का अति महत्वपूर्ण अंग है. यह शरीर के अंदर सबसे बड़ा ठोस अंग है. लिवर को शरीर की फैक्ट्री कहा जाता है. लिवर बॉडी के लिए 500 से अधिक काम करता है. लिवर प्रोटीन, कोलेस्ट्रॉल, हार्मोन सहित कई केमिकल को बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. यही कारण है कि लिवर को शरीर की फैक्ट्री भी कहा जाता है. लिवर ही भोजन में जाने वाले सभी तरह के जहर को निकालकर बाहर फेकता है. इसलिए लिवर का हेल्दी होना बहुत जरूरी है. लेकिन आजकल की जो लाइफस्टाइल है और जिस तरह का हमारा खान-पान है, उसमें लिवर पर बोझ बढ़ता जा रहा है. लिवर अपनी सफाई लिवर खुद कर लेता है लेकिन जब खान-पान में बहुत ज्यादा फैट और कार्बोहाइड्रैट की मात्रा बढ़ने लगे तो दिक्कतें होने लगती है.

आमतौर पर लिवर में वायरस या पैरासाइट हमला कर देते हैं जिसके कारण लिवर डैमेज होने लगता है. लिवर के खराब होने के कई कारण है जिनमें जेनेटिक प्रॉब्लम भी शामिल है. इसके अलावा अल्कोहल लिवर को सबसे बड़ा दुश्मन है. सिरोसिस का एक कारण शराब भी है. ऐसे में आपको यह जानना जरूरी है कि कब आपके लिवर पर बोझ बढ़ने लगा है और बीमारी की ओर जाने लगा है. कुछ संकेतों से इसका पता लगाया जा सकता है.

ये हैं लिवर डैमेज का वार्निंग साइन

1. लगातार थकान-मायो क्लिनिक के मुताबिक जब लगातार कई दिनों से बहुत ज्यादा थकान हो और यह रिलेक्स करने या दवा खाने से भी ठीक नहीं हो तो यह लिवर डैमेज होने के संकेत हो सकता है. लिवर खराब होने पर शरीर को एनर्जी सही से नहीं मिलती और एनर्जी स्टोर भी नहीं होती है. इस कारण लगातार थकान और कमजोरी महसूस होती है. यह थकान क्रोनिक में बदल जाती है.

2. स्किन-आंखों में पीलापन- अगर लिवर पर ज्यादा प्रेशर पड़ता है तो या इसपर वायरस या पैरासाइट का हमला होता है तो स्किन और आंखों के नीचे पीलापन दिखने लगता है. पीला दिखना जॉन्डिस या हेपटाइटिस बी या सी हो सकती है. ये दोनों बीमारियां लिवर को डैमेज कर देती है.

3. पेट में दर्द- जब पेट में अक्सर दर्द रहने लगे तो यह लिवर डैमेज का संकेत हो सकता है. अगर आंत में सूजन होती है तो उसका असर लिवर पर भी पड़ता है. इससे भोजन को पचाने के लिए लिवर से निकलने वाले एंजाइम कम बनते हैं. ऐसे में पेट में दर्द होना लाजिमी है.

4. पैर में सूजन-लिवर जब बहुत ज्यादा खराब होता है तो इसके लक्षण पैर और टखने में दिखने लगते हैं. इससे पैर और टखने में सूजन होने लगती है. इसमें काफी दर्द भी करता है. लिवर का फंक्शन कमजोर होने लगता है. इसका असर सूजन के रूप में सामने आती है.

5. स्टूल का रंग मटमैला-जब स्टूल का रंग मटमैला होने लगे तो समझिए कि यह लिवर डैमेज होने के संकेत हैं. इस स्थिति में तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए. जब लिवर से एंजाइम और एसिड नहीं बनता है या कम बनता है तो स्टूल का रंग मटमैला होने लगता है. इसका मतलब है कि लिवर कमजोर होने लगा है.

टैग: स्वास्थ्य, स्वास्थ्य सुझाव, जीवन शैली

(टैग्सटूट्रांसलेट)लिवर(टी)लिवर साफ करने वाला भोजन(टी)लिवर को स्वस्थ कैसे बनाता है(टी)लिवर को डिटॉक्स करने के टिप्स(टी)लिवर को साफ करने के प्राकृतिक तरीके(टी)लिवर डिटॉक्स टिप्स(टी)लिवर डिटॉक्स(टी)लिवर को कैसे साफ करें स्वाभाविक रूप से (टी) लिवर को कैसे साफ करें (टी) लिवर के लिए स्वस्थ भोजन (टी) लिवर को डिटॉक्स करें (टी) लिवर की कार्यप्रणाली को कैसे सुधारें (टी) स्वस्थ लिवर के लिए क्या खाएं (टी) लिवर को स्वस्थ कैसे बनाएं (टी) डिटॉक्स करने के टिप्स लिवर(टी)लिवर को साफ करने के प्राकृतिक तरीके(टी)लिवर स्वास्थ्य युक्तियाँ(टी)हार्वर्ड विश्वविद्यालय गैर-अल्कोहलिक फैटी लिवर रोग(टी)गैर-अल्कोहलिक फैटी लिवर रोग के लक्षण(टी)कॉफी के सेवन के प्रभाव(टी)गैर-अल्कोहल फैटी लिवर क्या है(टी)गैर-अल्कोहलिक फैटी लीवर रोग के लक्षण(टी)गैर-अल्कोहल फैटी लीवर रोग आहार

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*