कम उम्र में आपके दांत भी हो रहे कमजोर, ये हो सकती हैं बड़ी वजह, वक्त रहते करें यह काम, वरना जिंदगीभर पछताएंगे

हाइलाइट्स

हड्डियों की बीमारी ओस्टोपोरियोसिस की वजह से दांत हिलने लगते हैं.
मसूड़ों की बीमारियां और डायबिटीज भी दांतों को कमजोर बना सकती है.

कम उम्र में दांत खराब होने के कारण: हर किसी की चाहत होती है कि उसके दांत लंबी उम्र तक मजबूत और चमकदार बने रहें. कई लोग ऐसा करने में कामयाब रहते हैं और बुढ़ापे तक उनके दांत मजबूत बने रहते हैं. कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जिनके दांत उम्र से पहले ही गिरने लगते हैं. आज के दौर में 30-40 साल के युवा भी दांत कमजोर होने और दांत हिलने की परेशानी का सामना कर रहे हैं. कुछ लोगों के दांत तो इससे भी कम उम्र में गिर जाते हैं और उनकी पर्सनैलिटी पर इसका बुरा प्रभाव पड़ता है. अब सवाल उठता है कि कम उम्र में दांत किस वजह से गिरने लगते हैं? आज डेंटिस्ट से जानेंगे कम उम्र में दांत क्यों कमजोर होते हैं. साथ ही यह भी जानेंगे इससे किस तरह बचा जा सकता है.

दिल्ली के पीतमपुरा स्थित डॉ. गुलाटी डेंटल क्लीनिक के दंत रोग विशेषज्ञ डॉ. वैभव गुलाटी कहते हैं कि हमारे दांतो को सपोर्ट करने के लिए हड्डी होती है, जिसके ऊपर मसूड़े होते हैं. कुल मिलाकर हमारे दांत हड्डी और मसूड़ों पर टिके होते हैं. अगर हड्डी या मसूड़ों में किसी भी तरह इंफेक्शन होता है, चोट लगती है या कोई भी परेशानी होती है तो इससे दांत कमजोर होकर हिलने लगते हैं. मसूड़ों और हड्डियों की बीमारी होने पर कम उम्र में दांत कमजोर होने का खतरा ज्यादा होता है. विटामिन डी की कमी होने से भी दांत कमजोर हो जाते हैं. डायबिटीज के जिन मरीजों का ब्लड शुगर अनकंट्रोल रहता है, उन्हें भी मसूड़ों का इंफेक्शन और दांत गिरने का खतरा होता है.

दांतों को गिरने से कैसे बचाएं?

डॉ. वैभव गुलाटी के अनुसार दांतो को मजबूत बनाए रखने के लिए मसूड़ों और हड्डियों पर खास ध्यान रखना होगा. मसूड़ों को इंफेक्शन से बचाना होगा और इसके लिए प्रॉपर ब्रश करके दांतो को साफ करना होगा. अगर आप दांत साफ नहीं कर पा रहे हैं तो डेंटिस्ट से मिलकर हर साल दांतों की क्लीनिंग करवा सकते हैं. कोई मसूड़ों की डिजीज है तो उसका इलाज करवाएं. इसके अलावा अपने शरीर में कैल्शियम और विटामिन का लेवल जरूर चेक कराएं. कैल्शियम या विटामिन की कमी होने पर डॉक्टर की सलाह से सप्लीमेंट ले सकते हैं. इससे हड्डियां मजबूत रहेंगी और आपके दांत भी मजबूत रह सकेंगे. दांतों को हेल्दी रखने के लिए डायबिटीज को कंट्रोल करना भी बहुत जरूरी होता है.

यह भी पढ़ें- क्या नीम की पत्तियां खाने से कंट्रोल हो सकती है डायबिटीज? डॉक्टर ने बताई हकीकत, जानकर रह जाएंगे हैरान

इन बातों का भी रखें ध्यान

डेंटिस्ट के मुताबिक दांतों की समस्याओं से बचने के लिए तंबाकू और स्मोकिंग को अवॉइड करना चाहिए. इससे हमारे मसूड़ों को नुकसान हो सकता है और दांत कमजोर हो सकते हैं. दांतों को ब्रश से अच्छी तरह साफ करना भी जरूरी होता है. आप दिन में दो-तीन बार गुनगुने पानी में नमक डालकर गरारा भी कर सकते हैं. मसूड़ों को मजबूत करने के लिए आप डॉक्टर की सलाह पर गम पेंट लेकर मसूड़ों की मसाज कर सकते हैं. ऐसा आप दो-तीन मिनट तक सुबह और शाम को करें. इन सभी बातों का ध्यान रखकर आप अपने दांतों को लंबे समय तक मजबूत रख सकते हैं.

यह भी पढ़ें- शरीर में कितना होना चाहिए गुड-बैड और टोटल कोलेस्ट्रॉल लेवल, कब बन जाता है घातक, यहां चेक करें चार्ट

टैग: स्वास्थ्य, जीवन शैली, ट्रेंडिंग न्यूज़

(टैग्सटूट्रांसलेट)युवा वयस्कों में दांत खराब होना(टी)कम उम्र में दांत खराब होने के कारण(टी)दांत खराब होने का इलाज(टी)वयस्कों में दांत खराब होना(टी)युवा वयस्कों में दांत खराब होने का क्या कारण है(टी)वयस्कों में दांत क्यों गिरते हैं (टी) क्या वयस्कों के दांत गिरना सामान्य है (टी) वयस्कों में दांत गिरने का मुख्य कारण क्या है (टी) किस बीमारी के कारण दांत गिरते हैं (टी) दांत गिरने से बचाव

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*