जिस घर में बीता था हिटलर का बचपन… अब वहां मिलेगी मानवाधिकार पर ट्रेनिंग, ऑस्ट्रिया सरकार ने उठाया बड़ा कदम

हाइलाइट्स

हिटलर का जन्म 20 अप्रैल, 1889 को ऑस्ट्रिया में हुआ था.
वह तीन साल की उम्र में अपने परिवार के चले जाने तक ऑस्ट्रिया के ब्रेनाऊ एम इन में एक इमारत में रहा.
अब इस इमारत को ऑस्ट्रिया सरकार ने पुलिस अधिकारियों के लिए मानवाधिकार प्रशिक्षण केंद्र में बदलने का फैसला लिया है.

नई दिल्ली. ऑस्ट्रिया (Austria) में जिस घर में नाजी तानाशाह एडॉल्फ हिटलर (Adolf Hitler) का जन्म हुआ था, उसे पुलिस अधिकारियों के लिए मानवाधिकार प्रशिक्षण केंद्र में बदल दिया जाएगा. यह घोषणा ऑस्ट्रिया के गृह मंत्रालय ने पिछले हफ्ते की थी. यह फैसला इस बात पर बहस के वर्षों बाद लिया गया कि इसे नव-नाजियों के लिए तीर्थस्थल बनने से कैसे रोका जाए.

CNN के अनुसार हिटलर का जन्म 20 अप्रैल, 1889 को वियना से 284 किमी पूर्व में उत्तर-पश्चिम ऑस्ट्रिया के ब्रेनाऊ एम इन में एक इमारत में हुआ था. वह तीन साल की उम्र में अपने परिवार के चले जाने तक वहीं रहा. यह इमारत गेरलिंडे पोमेर की थी, जिसका परिवार हिटलर के जन्म से पहले इमारत का मालिक था. साल 2016 में सरकार ने एक लंबे विवाद के बाद अनिवार्य खरीद आदेश के तहत भवन खरीद लिया. बाद में साल 2019 में यह पता चला कि साइट का उपयोग पुलिस स्टेशन के रूप में किया जाएगा.

पढ़ें- PHOTOS: गजब! वैज्ञानिकों का कमाल… अब मां के पेट से नहीं, लैब में पैदा होंगे डिजाइनर बच्चे

मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि यह निर्णय एक अंतःविषय विशेषज्ञ आयोग की सिफारिशों के आधार पर किया गया था, जो ‘चरमपंथी हलकों के लिए पौराणिक अपील’ की संपत्ति से वंचित था. आयोग के सदस्य हरमैन्न फेनियर ने एक बयान में कहा ‘यह ऑस्ट्रिया में सबसे बड़े मानवाधिकार संगठन पुलिस के लिए एक कार्यालय होगा और यह इस मौलिक रूप से महत्वपूर्ण विषय में प्रशिक्षण का केंद्र भी होगा.’

यह इमारत गेरलिंडे पोमेर की थी, जिनके परिवार के पास दशकों तक इमारत का स्वामित्व था, जब तक कि गृह मंत्रालय ने साल 1972 में उनसे साइट किराए पर लेना शुरू नहीं कर दिया. इससे पहले यह चैरिटी के लिए किराए पर दिया गाया था. हालांकि, तीन मंजिला घर साल 2011 से खाली है. साल 2011 में किरायेदार एक विकलांगता केंद्र ने परिसर खाली कर दिया था. साल 2016 से मंत्रालय इसे गिराने पर जोर दे रहा था. लेकिन योजनाओं को राजनेताओं और इतिहासकारों के गुस्से और प्रतिरोध का सामना करना पड़ा. इसके बाद सरकार ने विशेष कानूनी प्रधिकरण लागू करने के बाद गेरलिंडे पोमेर से इमारत का अधिग्रहण किया. 21.5 मिलियन अमेरिकी डॉलर की अनुमानित लागत वाला निर्माण कार्य साल 2025 में पूरा होने की उम्मीद है.

टैग: दुनिया, विश्व समाचार

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*