पढ़ाई में नहीं लगता था मन, फिर वो दुनिया का सबसे धनी शख्स बन गया

उसके पिता धनी वकील थे. उन्हें लगता था कि बेटा पढ़-लिखकर उनका नाम रोशन करेगा. उन्होंने बड़ी उम्मीदों के साथ उसे स्कूल भेजा. लेकिन समस्या ये थी कि बेटे का मन पढ़ाई में लगता ही नहीं था. टीचर्स लगातार उसे डांटती और नसीहतें देती थीं. एक दिन इसी लड़के ने ऐसी चीज बनाई कि पूरी दुनिया उसकी दीवानी बन गई. वो दुनिया का सबसे धनी शख्स बन गया.

ये शख्स कोई और नहीं बल्कि बिल गेट्स थे. उनके पिता सिएटल के बड़े वकीलों में थे. घर में पैसे की कोई कमी नहीं थी. मां भी दो बड़ी कंपनियों में डायरेक्टर थीं.

बिल गेट्स 28 अक्टूबर 1955 को पैदा हुए तो उनके पेरेंट्स ने उसी समय उनका भविष्य प्लान कर लिया. उन्होंने कहा कि उनका ये बेटा बड़ा वकील बनेगा.

वो बार-बार फेल होती थी, रोती थी, कमर कसती थी, फिर दुनियाभर में हो गई फेमस

बड़े अरमानों से भेजा गया स्कूल
बिल को बड़े अरमानों से स्कूल भेजा गया, लेकिन जैसे-जैसे उनकी पढ़ाई बढ़ती गई, वो उससे दूर भागने लगे. वो क्लास गोल करते थे. स्कूल में क्लासेस के दौरान बाहर बैठकर अलग ही खयालों में खोए होते थे. जब उनका पढ़ाई में ही मन नहीं लगता था तो अच्छे नंबर कैसे आते.

बिल गेट्स के नंबर कभी अच्छे नहीं आए. पेरेंट्स चिंतित थे. वो बार-बार बेटे को पढ़ने के लिए कहते थे, लेकिन वह साफ-साफ कह देता था कि उसका पढ़ाई में मन ही नहीं लगता. वो वकील नहीं बनने वाला.

बीच में ही छोड़ दी पढ़ाई
उन्होंने किसी तरह हाईस्कूल पास किया तो उन्हें आगे की पढ़ाई के लिए हार्वर्ड भेजा गया, लेकिन गेट्स ने बीच में ही पढ़ाई छोड़ दी. वह अपने दोस्त के साथ कंप्यूटर की प्रोग्रामिंग में जुट गए. उनका ये दोस्त पॉल एलन पहले ही अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़ चुका था.

पेरेंट्स ने उन्हें बहुत डांटा, लेकिन बिल पर कोई फर्क नहीं पड़ा. वह अपनी ही मर्जी के मालिक बन चुके थे. हालांकि पढ़ाई बीच में छोड़ने के कारण वह मजाक के पात्र जरूर बन गए थे. पिता के परिचितों से लेकर दोस्त तक जो भी मिलता था, उन पर फब्ती जरूर कस देता. उनकी खराब पढ़ाई लिखाई का मजाक बनाता था.

UP Board Result 2019: रिजल्ट में लगे गड़बड़ी तो स्टूडेंट्स यहां करें शिकायत

पेरेंट्स को लगता था कि वह समय बर्बाद कर रहे हैं
जब बिल अपने दोस्त एलन के साथ मिलकर कंप्यूटर प्रोग्रामिंग कर रहे होते थे तो उनके पेरेंट्स को यही लगता था कि वह अपना समय बर्बाद कर रहे हैं. एक समय बाद पेरेंट्स ने मान लिया कि वह हाथ से निकल चुके हैं. लिहाजा उन्हें उनके हाल पर छोड़ दिया गया.

फिर माइक्रोसॉफ्ट ने क्रांति कर दी
जब बिल गेट्स ने पॉल एलन के साथ मिलकर अल्टवेयर के नाम से पहला प्रोग्राम बनाया, तो ये काफी अच्छा रहा. बस इसके बाद बिल और पॉल ने माइक्रोसॉफ्ट कंपनी बनाई. पहले तो माइक्रोसॉफ्ट ने दूसरी कंपनियों के लिए साफ्टवेयर बनाए, लेकिन जब विंडो पेश किया तो उसके बाद दुनियाभर के कंप्यूटर्स के आपरेटिंग सिस्टम विंडो पर चलने लगे. विंडो के जरिए माइक्रोसाफ्ट ने जो क्रांति की, उसके बाद ना कंपनी ने पीछे मुड़कर देखा और ना ही बिल गेट्स ने.

20 सालों से कहीं ज्यादा समय तक नंबर वन धनी रहे
बिल गेट्स पिछले 20 से कहीं अधिक सालों तक दुनिया के सबसे धनी व्यक्ति रहे. अब भी वह दुनिया के टॉप पांच धनी लोगों में शुमार हैं. लेकिन ये वही गेट्स थे जिनका मन बेशक पढ़ाई में नहीं लगता था, लेकिन उनके पास एक अलग तरह का टैलेंट था.

UP Board Result 2019: पैरेंट्स कर लें ये पांच तैयारी, भूलकर भी ना कहें बच्चे से ऐसी बात

टैग: बिल गेट्स, सफलता की कहानी, सफलता के टिप्स और ट्रिक्स, सफल बिजनेस लीडर, यूपी बोर्ड परिणाम

(टैग्सटूट्रांसलेट)बिल गेट्स(टी)सफलता की कहानी(टी)सफलता के टिप्स और ट्रिक्स(टी)सफल बिजनेस लीडर्स(टी)यूपी बोर्ड परिणाम

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*