कोलकाता. पश्चिम बंगाल में शनिवार को दो और लोगों की मौत होने से राज्य में 8 जून से जारी राजनीतिक हिंसा में मरने वालों की तादाद 52 हो गई है. इस बीच, तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के कुछ कार्यकर्ताओं ने कथित तौर पर भाजपा के एक पोलिंग एजेंट के साथ मारपीट करने के बाद उसके चेहरे पर पेशाब कर दिया. यह घटना गुरुवार रात पश्चिम मेदिनीपुर जिले में हुई.

‘द इंडियन एक्सप्रेस’ ने अपने सूत्रों के हवाले से बताया, टीएमसी ने कथित तौर पर बीजेपी कार्यकर्ता बरुण रुइदास का अपहरण कर लिया, उनके साथ मारपीट की और पानी मांगने पर उनके चेहरे पर पेशाब कर दिया. हालांकि, तृणमूल कांग्रेस ने सभी आरोपों से इनकार किया है और कहा है कि ये विपक्ष की ‘सत्तारूढ़ पार्टी की छवि खराब करने की सोची-समझी योजना’ का हिस्सा है.

भाजपा ने टीएमसी के खिलाफ दर्ज कराई शिकायत
रुइदास के अनुसार, जिन्हें शुक्रवार को एक स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया था, उन्हें उनके ‘अपहरणकर्ताओं’ द्वारा एक स्थानीय टीएमसी कार्यालय में ले जाया गया था. पार्टी नेता समित दास के नेतृत्व में भाजपा का एक प्रतिनिधिमंडल शनिवार सुबह रुइदास से मिलने अस्पताल पहुंचा. अस्पताल के बाहर मीडियाकर्मियों से बात करते हुए दास ने दावा किया, ‘टीएमसी कार्यकर्ताओं ने हमारे पोलिंग एजेंट बरुण रुइदास से पैसे की मांग की, जिन्होंने उन्हें भुगतान करने से इनकार कर दिया. फिर उनका अपहरण कर लिया गया और एक पार्टी कार्यालय में ले जाया गया जहां उनकी जमकर पिटाई की गई. जब उन्होंने पानी मांगा तो नशे में धुत टीएमसी कार्यकर्ताओं ने उनके चेहरे पर पेशाब कर दिया. हमने मामले में पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है.’

अमित शाह अगस्त में पश्चिम बंगाल का दौरा कर सकते हैं : भाजपा
इस बीच, भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने शनिवार को कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह अगस्त में पश्चिम बंगाल का दौरा कर सकते हैं. राज्य में हाल में संपन्न पंचायत चुनावों के दौरान हिंसा के बाद शाह का दौरा अहम माना जा रहा है. शुक्रवार को दिल्ली में अमित शाह से मुलाकात करने वाले मजूमदार ने यहां हवाई अड्डे पर संवाददाताओं से कहा कि शाह नहीं चाहते कि पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा के कारण एक भी मौत हो.

बंगाल के हालात को लेकर अमित शाह चिंतित
पुलिस सूत्रों ने कहा कि आठ जून को चुनाव की तारीख घोषित होने के बाद से पंचायत चुनाव से संबंधित हिंसा में 52 लोगों की मौत हो गई है. जान गंवाने वालों में से अधिकतर लोग सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस से जुड़े थे. मजूमदार ने कहा, ‘अमित शाह के अगस्त में पश्चिम बंगाल का दौरा करने की उम्मीद है. तारीख उनके कार्यक्रमों पर निर्भर करेगी. वह बंगाल में मौजूदा स्थिति को लेकर चिंतित हैं. वह चाहते हैं कि अब किसी भी पार्टी के एक भी कार्यकर्ता की मौत नहीं हो.’

केंद्रीय बलों की तैनाती की वजह से हताहतों की तादाद कम
भाजपा सांसद ने दावा किया कि यदि आठ जुलाई को पंचायत चुनाव होने के बाद केंद्रीय बलों को तैनात नहीं किया गया होता, तो हताहतों की संख्या अधिक होती. उन्होंने कहा, ‘अमित शाह बलों की तैनाती की निगरानी कर रहे हैं. केंद्रीय बल कुछ और समय के लिए राज्य में तैनात रहेंगे.’ वहीं, तृणमूल कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य और पार्टी प्रवक्ता शांतनु सेन ने आरोप लगाया कि केंद्रीय मंत्री निसिथ प्रामाणिक और विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी की ‘गैर जिम्मेदाराना और उकसावे वाली’ टिप्पणियों के कारण हिंसा हुई.

(इनपुट पीटीआई से भी)

टैग: अमित शाह, बी जे पी, ममता बनर्जी, टीएमसी, पश्चिम बंगाल

(टैग्सटूट्रांसलेट)पश्चिम बंगाल वायलिन(टी)पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव(टी)पश्चिम बंगाल चुनाव हिंसा(टी)पश्चिम बंगाल चुनाव हिंसा(टी)बंगाल में अमित शाह(टी)अमित शाह पश्चिम बंगाल(टी)अमित शाह समाचार(टी) अमित शाह ताजा खबर

Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *