हाइलाइट्स

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का विवादित बयान
धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री बनाम पंडित प्रदीप मिश्रा
मिश्रा बोले- बोलने से पहले आंतरिक अनुवाद करें

अलवर. अलवर के प्रसिद्ध शिव कथा वाचक पंडित प्रदीप मिश्रा (Pandit Pradeep Mishra) ने बागेश्वर धाम के पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री (Dhirendra Krishna Shastri) की ओर से नोएडा में महिलाओं पर दिए गए विवादित बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है. पंडित मिश्रा ने कहा किसी भी सौभाग्यवती महिला के लिए ऐसे शब्द श्रेष्ठ नहीं है. आपका चेहरा आपकी पहचान नहीं है. आपके कर्म और काम पहचान होती है. आप कुछ भी बोलना चाहते हैं तो उसका आंतरिक अनुवाद करें. पहले उसे अपने घर परिवार पर सोच कर देखना चाहिए कि क्या वह बोल रहे हैं.

पंडित मिश्रा ने कहा कि उसके बाद ही ऐसे शब्दों पर बोलना चाहिए. किसी नारी और सौभाग्यवती नारी के लिए यह सब बोलना अच्छा नहीं है. बागेश्वर धाम के पंडित धीरेंद्र शास्त्री ने हाल ही में नोयडा में आयोजित एक सभा में कहा था कि जिस महिला के मांग में सिंदूर और गले मंगलसूत्र नहीं है समझ लिजिये वह प्लाट खाली है. उसके बाद उनका यह बयान खासा चर्चा में आ गया.

बहन बेटियां खुद अपने परिवार के संस्कारों ध्यान में रखकर निर्णय लें
पंडित मिश्रा ने लव जिहाद के मामले पर बोलते हुए कहा कि बहन बेटियों को अपने माता पिता और परिवार के संस्कारों तथा विचारों को ध्यान में रखते हुए निर्णय करना चाहिए. प्रलोभन में आकर के इस तरीके से बहकावे में नहीं आए. मिश्रा ने कहा कि कुछ लोगों के द्वारा षड़यंत्र रचकर बालिकाओं को अपने जाल में फंसाया जाता है. उससे बचने की कोशिश करें. उन्होंने कहा कि जो लोग ऐसा काम करते हैं हम उन्हें तो सुधार नहीं सकते लेकिन बहन बेटियां खुद अपने परिवार के संस्कारों ध्यान में रखकर निर्णय लें तो इस तरह की घटनाओं को रोका जा सकता है.

बच्चों को अपराध से दूर रहने की शिक्षा दें
बढ़ते हुए अपराधों के सवाल पर जवाब देते हुए पंडित प्रदीप मिश्रा ने कहा कि पुलिस कोई भी अपराध को नहीं रोक सकती जब तक कि खुद इंसान अपने बच्चों को अच्छे संस्कार नहीं देंगे. अगर बच्चों को अपराध से दूर रखने की शिक्षा नहीं दी जाएगी तो अपराध को रोकना मुश्किल है.

टैग: अलवर समाचार, विवादास्पद बयान, राजस्थान समाचार, धर्म

Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *