‘आप एक नंबर के फ्रॉड हैं…’ महेश भट्ट के दिल पर लग गई थी ये बात, एक्टर ने क्यों निकाली थी भड़ास?

नई दिल्ली. ‘सारांश’, ‘शोला और शबनम’, ‘त्रिनेत्र’, ‘राम लखन’, ‘कर्मा’, ‘मिसाल’, ‘तहान’, ‘द कश्मीर फाइल्स’ जैसी कई एक से बढ़कर एक फिल्म देने वाले बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता अनुपम खेर, पिछले 40 साल से बॉलीवुड इंडस्ट्री में अपनी एक्टिंग से लोगों को दंग कर रहे हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि कश्मीर की धरती को छोड़ मायानगरी मुंबई में बस चुके अनुपम ने सालों पहले मुंबई छोड़ने का फैसला कर लिया था. 1984 में उन्होंने एक्टिंग को अलविदा कहने का मन बना लिया था, लेकिन फिर कुछ ऐसा हुआ कि किस्मत चमकी और पहली ही फिल्म से वह डायरेक्टर्स की लिस्ट में शुमार होने लगे.

कहते हैं कि काबिल इंसान को सिर्फ एक मौके की तलाश होती है. लेकिन इस मौके से साथ भाग्य का भी अहम योगदान होती है. मेहनत और भाग्य का साथ अगर मिल जाए, तो इंसान की जिंदगी बन जाती है. ऐसा ही कुछ अनुपम खेर के साथ हुआ. अपनी पहली फिल्म के एक्टर ने जी तोड़ मेहनत की, लेकिन इस मेहनत के बाद जो हुआ क्षण भर के लिए जो हुआ, उसने एक्टर को तोड़ दिया था. क्या है ब्लॉकबस्टर फिल्म से जुड़ा वो किस्सा आपको बताते हैं.

28 साल की उम्र में 70 साल के बूढ़े का निभाना था किरदार
बात सालों पुरानी है. महेश भट्ट फिल्म ‘सारांश’ लेकर आने वाले थे. फिल्म के लिए अनुपम खेर के नाम को फाइनल किया गया. इस फिल्म के लिए बीवी प्रधान की किरदार उन्हें दिया गया, जिसमें एक्टर ने 28 साल की उम्र में 70 साल के एक बूढ़े-लाचार आदमी की भूमिका निभाई. फिल्म को राजश्री प्रोडक्शंस के मालिक ताराचंद बड़जात्या प्रोड्यूस कर रहे थे. तैयारी पूरी हो गई थी. अनुपम अपने किरदार में डूब चुके थे, लेकिन फिल्म की शूटिंग शुरू होनी थी तभी अनुपम खेर को खबर मिली की फिल्म में उनकी जगह संजीव कुमार को कास्ट करने की बात की जा रही है.

‘सारांश’ के लिए अनुपम खेर ने फिल्मफेयर से बेस्ट एक्टर का पुरस्कार जीता था. वीडियो ग्रैब

महेश भट्ट का बात सुन जब टूट गए थे अनुपम
ये सुनकर पहले तो अनुपम खेर को विश्वास नहीं हुआ, क्योंकि महेश भट्ट ने अभी तक इस बारे में कोई जिक्र ही नहीं किया था. लेकिन कुछ दिनों के बाद ही महेश भट्ट ने अनुपम खेर को बताया कि राजश्री प्रोडक्शन को इस रोल के लिए कोई जाना-माना एक्टर चाहिए, इसलिए संजीव कुमार को कास्ट किया गया है. ये सुनकर एक्टर बुरी तरह से टूट गए. सपने जैसे बिखर गए हो.

गुस्से में महेश भट्ट के घर पहुंचे थे अनुपम
नए-नए मुंबई आए अनुपम खेर ने ये सब सुनकर शहर छोड़ने का मन बना लिया. जब अनुपम अपना सामान समेटकर मुंबई से वापस जा रहे थे, तब रास्ते में महेश भट्ट का घर पड़ा तो उन्होंने सोचा महेश भट्ट को वो खरी-खोटी सुनाकर जरूर जाएंगे. गुस्से में अनुपम महेश भट्ट के घर पहुंचे. वह गुस्से में तो पहले ही थे, उसके बाद और चिढ़कर बोले, ‘जाने से पहले मैं आपको ये बताने आया हूं कि आप एक नंबर के फ्रॉड हैं. झूठे हैं. पिछले छह महीने से मैं अपने रोल की प्रैक्टिस करने में लगा हुआ हूं और आज अचानक मुझे इस फिल्म से हटा दिया जा रहा है’.

फिल्म ने किया था 2 करोड़ का बिजनेस
महेश भट्ट को अनुपम खेर की ये बात दिल पर लग गई. उन्होंने राजश्री प्रोडक्शन को फोन कर कहा कि यदि इस फिल्म में अनुपम खेर नहीं होंगे तो वे ये फिल्म निर्देशित नहीं करेंगे. इस तरह ये भूमिका अनुपम खेर को मिली जो काफी सराही गई. करीब 1 करोड़ के बजट में बनी इस फिल्म ने 2 करोड़ का बिजनेस किया था.

अनुपम खेर ने जीता था बेस्ट एक्टर फिल्मफेयर अवॉर्ड
परेशान निजी जिंदगी और अस्थापित करियर से जूझ रहे महेश भट्ट के लिए ‘सारांश’ सबसे बड़ी पहचान बन गई. साल 1984 में इस फिल्म को 57वें ऑस्कर अवॉर्ड्स में इंडिया की ऑफिशियल एंट्री के तौर पर भेजा गया था, हालांकि फाइनल दौड़ का वो हिस्सा नहीं बन पाई. ‘सारांश’ के लिए अनुपम खेर ने फिल्मफेयर से बेस्ट एक्टर का पुरस्कार जीता था.

टैग: अनुपम खेर, मनोरंजन विशेष, Mahesh bhatt

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*