बेवफाई पर बन रहे ताबड़तोड़ गाने, किसी ने किया आलोक मौर्या को सपोर्ट, तो किसी ने गाया-राजा SDM बना दा धोखा न देब

मुंबई। भोजपुरी इंडस्ट्री अपने तेज-तर्रार क्रिएटिविटी के लिए जानी जाती है. देश के हर बड़े मुद्दे, त्यौहार और अच्छे मौके पर तुरंत गाने बना देते हैं. चाहे वो ‘सर्जिकल स्ट्राइकल’ का मामला हो या कश्मीर से ‘धारा 370’ हटाने का. इसके अलावा भोजपुरी इंडस्ट्री के सिंगर सोशल मीडिया पर चलने वाले ट्रेंडिंग मुद्दे पर भी तुरंत गाने बना देते हैं. ऐसे में एसडीएम ज्योति मौर्या और आलोक मौर्या के विवाद पर कहां पीछे रहने वाले हैं. ज्योति मौर्या और आलोक मौर्या के संबंध और विवाद पर कई भोजपुरी सिंगर्स ने गाने गाए हैं.

ज्योति मौर्या और आलोक मौर्या सिर्फ एक-दो गाने नहीं बल्कि 10 से ज्यादा गाने अब तक आ चुके हैं. इन गानों के व्यूज भी लाखों में आ रहे हैं. ये गाने वायरल हो रहे हैं. कई सिंगर्स आलोक मौर्या को सपोर्ट कर रहे हैं. हालांकि कुछ ने अपने गानों के आलोक मौर्या और ज्योति मौर्या की शादी से लेकर अफेयर तक के चर्चे को विरहा फॉर्म में गाया है.

इन गानों में सबसे टॉप पर एसडीएम ज्योति मौर्या आलोक मौर्या चालीसा है. इसे चंदा शर्मा ने गाया है. 5 जुलाई को आए इस गाने को 12 लाख से ज्यादा व्यूज मिल चुके हैं. वहीं, एसडीएम बनते ही भूल गईलु को 6 लाख से ज्यादा व्यूज मिले हैं, जिसे रितीक पांडे ने गाया है. इसके बोल गुरुदेव जी ने लिखे है जबकि म्यूजिक अमन रॉक ने दिया है.

रवि भारती यादव ने एसएडीएम जईसन मउगी ** न मिले गाया है. इस गाने को भी 3 लाख से ज्यादा व्यूज मिल चुके हैं. बेवफा एसडीएम ज्योति उर्फ आलोक मौर्या को इंसाफ नाम के गाने को ओम प्रकाश दिवाना ने गाया है. इस गाने को भी हजारों में व्यूज मिले हैं. इन गानों के अलावा ज्योति और आलोक से इंस्पायर कई तरह के गाने बन रहे हैं.

इन गानों में एक है, ‘राजा एसडीएम बना दा धोखा ना देहम’. इस गाने को शिवानी सिंह ने गाया है. शिवानी ने यह गाना उन खबरों से इंस्पायर होकर गया है, जिनमें दावा किया गया है कि आलोक-ज्योति मौर्या की खबरों से प्रभावित बिहार, पूर्वी उत्तर प्रदेश और झारखंड में कई पुरुषों ने अपनी पत्नी कोचिंग सेंटर या पढ़ाई लिखाई छुड़वा दी है. इस गाने को भी डेढ़ लाख से ज्यादा व्यूज मिल चुके हैं.

टैग: Bhojpuri Song, एसडीएम

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*