गलत दिशा में ड्राइविंग से देश में रोजाना जाती हैं इतनी जानें, जानकर आप भी परेशान होंगे

हाइलाइट्स

सड़क परिवहन के एक्‍सपर्ट मानते हैं कि कार्रवाई और सख्‍त होनी चहिए
वाहन को सीज करना सबसे ज्‍यादा जरूरी है

नई दिल्‍ली. दिल्‍ली-मेरठ एक्‍सप्रेसवे पर गलत दिशा से आ रही बस की चपेट में आने से छह लोगों की मौत का यह इकलौता मामला नहीं है. देशभर में इस तरह होने वाले हादसों में इससे चार गुना अधिक लोगों की जान जाती है. सरकारी आंकड़ों के अनुसार प्रति वर्ष करीब 8000 लोग गलत दिशा से आने वाले वाहनों के चलते जान गंवाते हैं और इससे ढाई गुना से अधिक लोग घायल हो जाते हैं. रोड ट्रांसपोर्ट के एक्‍सपर्ट का मानना है कि ऐसे हादसों को कम करने या रोकने के लिए इनफोर्समेंट एजेंसियों को और सख्‍त कदम उठाने होंगे, तभी लोगों की जान बचाई जा सकती है.

देश में हर वर्ष सड़क हादसे की वजह से करीब 1.5 लाख लोगों की मौत होती है. इनमें से करीब पांच फीसदी से अधिक लोगों की मौत की वजह गलत दिशा में आ रहे वाहन बनते हैं. सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2020 में गलत दिशा से आने वाले वाहनों से 20228 सड़क हादसे हुए हैं और इनमें 7332 लोगों की मौत हुई है, जबकि 19481 लोग घायल हुए हैं. वहीं, वर्ष 2021 में हादसों की संख्‍या और बढ़ गई. इस वर्ष 21491 सड़क हादसों में 8122 लोगों की मौत हुई और 20351 लोग घायल हुए हैं. इस तरह पांच फीसदी से अधिक लोगों के जान गंवाने का कारण गलत दिशा में चलने वाले वाहन बनते हैं.

इस संबंध सेव लाइफ फाउंडेशन के सीईओ पीयूष तिवारी बताते हैं कि गलत दिशा में चलने वाले वाहनों को रोकने के लिए केवल चालान करने बात नहीं बनेगी. इसके लिए इनफोर्स एजेंसियों को सख्‍त कदम उठना चाहिए. सबसे पहले ऐसे मामले में वाहन को सीज कर देना चाहिए और आईपीसी की धारा 276 के तहत मामला दर्ज करना चाहिए. यानी खतरनाक ड्राइविंग का मामला दर्ज करने से वाहन चालक को 2 साल तक की जेल हो सकती है. गलत दिशा में केवल इमरजेंसी वाहनों उन हालातों में अनुमति देना चाहिए जब उस दिशा में जाने वाला ट्रैफिक जाम हो और वहां तक पहुंचने के लिए वाहन को सायरन बजाते हुए जाना चाहिए, जिससे सामने आ रहे वाहन को दूर से पता चल जाए कि उल्‍टी दिशा से कोई वाहन आ रहा है और वाहन चालक अलर्ट हो जाए.

वहीं, इस संबंध में एनसीआर गाजियाबाद के डीसीपी ट्रैफिक रामानंद कुशवाहा बताते हैं कि पुलिस लगातार गलत दिशा से आने वाले वाहनों नियम के अनुसार कार्रवाई करती है. दिल्‍ली मेरठ एक्‍सप्रेसवे पर गाजियाबाद मेें ही हादसा हुआ है.

टैग: दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे, सड़क दुर्घटना, सड़क दुर्घटनाएं

(टैग्सटूट्रांसलेट)सड़क दुर्घटना(टी)भारत में सड़क दुर्घटना(टी)गलत दिशा में गाड़ी चलाने से मौत(टी)गलत साइड से गाड़ी चलाने से देश में रोजाना मौतें होती हैं(टी)दिल्ली मेरठ सड़क दुर्घटना

Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*