हाइलाइट्स

सूूर्य नमस्‍कार से पहले वार्मअप जरूर करें.
अभ्‍यास के दौरान अपनी सांसों पर ध्‍यान दें.

सविता यादव के साथ योग सत्र: योग हमारे शरीर को फिट रखने और मन को शांत करने के लिए काफी उपयोगी माना जाता होता है. आप बड़ी ही आसानी से कहीं भी योग कर सकते हैं और अपने दिन की शुरुआत बेहतर बना सकते हैं. योग किसी भी उम्र के लोगों के लिए फायदेमंद होता है. कई महत्‍वपूर्ण योगाभ्‍यासों में से एक है सूर्य नमस्‍कार. सूर्य नमस्‍कार एक बहुत ही प्रभावशाली अभ्‍यास है, जिसकी मदद से आप अंदरूनी अंगों को भी मजबूत बना सकते हैं और मांसपेशियों को भी फिट रख सकते हैं. इसे बेहतरनी कार्डियो एक्‍सरसाइज की तरह भी आप दिनचर्या में शामिल कर सकते हैं. कई गुणों वाले इस अभ्‍यास को सही तरीके से करने के लिए आप यहां बताए गए तरीके को फॉलो कर सकते हैं.

ऐसे करें शुरुआत

-आप सबसे पहले आप मैट पर सुखासन, अर्ध पद्मासन या पद्मासन की मुद्रा में बैठें. अब आंखों को बंद कर ध्‍यान करें. आती-जाती सांसों पर ध्‍यान केंद्रित करें और ‘ओम’ शब्‍द का उच्‍चारण करें.

-आप अपनी दोनों हाथों की उंगलियों को इंटरलॉक करें और स्‍ट्रेच करते  हुए उठाएं. कुछ देर इस मुद्रा में रहें और गहरी सांस लेते रहें. फिर रिलैक्‍स कर हाथों को नीचे कर लें.

-अब आप अपने पैरों को मैट पर आगे की तरफ सीधा करें और कुछ सूक्ष्‍मयाम आदि कर शरीर को वार्मअप कर लें. याद रखें सूर्य नमस्‍कार से पहले अपने शरीर को अच्‍छी तरह वार्मअप करना जरूरी होता है. आप इस अभ्‍यास को विस्‍तार से देखने के लिए आप वीडियो लिंक पर क्लिक करें.

” isDesktop=’true’ id=’6763157′ >

ऐसे करें सूर्य नमस्‍कार का सही अभ्‍यास

प्रणामासन- सूर्य नमस्‍कार का पहला आसन प्रणामासन होता है. इसे करने के लिए आप अपने अपने मैट पर सीधा खड़े हो जाएं. दोनों हथेलियों को आगे से जोड़कर प्रणाम की मुद्रा बनाएं.

हस्तउत्तनासन- अब गहरी सांस लेते हुए दोनों हाथों को उठाते हुए पीछे की तरफ हल्‍का झुकने का प्रयास करें. इस मुद्रा में कुछ देर होल्‍ड करें. आपकी नजर आकाश या पीछे की तरफ रहेगी.

इसे भी पढ़ें: योग सत्र: कमर के आसपास जम गई है चर्बी? रोज करें 4 योगाभ्‍यास, कोर मसल्‍स भी बनेंगे स्‍ट्रॉन्‍ग

पादहस्तासन- अब सांस को छोड़ते हुए हाथों को आगे की ओर लेकर आएं और पूरी तरह से आगे की तरफ झुकने का प्रयास करें. अपने हाथों से पैरों की उंगलियों को छूने का प्रयास करें. आपकी नजर आपके घुटनों पर होगी.

अश्व निदेशक मंडल- अब गहरी सांस लेते हुए अपनी हथेलियों को जमीन पर रखें और एक पैर को पीछे की तरफ ले जाएं. आपके इस पैर के घुटने जमीन पर सटे होंगे. इस मुद्रा में कुछ देर होल्‍ड करें. आपकी नजर आगे की तरफ होगी.

इसे भी पढ़ें : Yoga Session: फिजिकल और मेंटल हेल्थ को दुरुस्त रखेगा सूर्य नमस्‍कार, ऐसे करें अभ्यास, मिलेगा दोगुना फायदा

संतुलन चलो भी दंडासन- अब गहरी सांस लेते हुए दूसरा पैर भी पीछे ले जाएं और हाथ के पंजों पर पूरे शरीर का वजन दें. इस मुद्रा में कुछ देर होल्‍ड करें.

अष्टांग नमस्कार- गहरी सांस देते हुए अब धीरे से अपने सीना, घुटने, चिन को भी जमीन से सटाएं. आपकी नजर जमीन पर होगी. इस मुद्रा में कुछ देर होल्‍ड करने का प्रयास करें.

पर्वतासन- अब अपने शरीर और कूल्‍हों को पर्वत की तरह उठा लें और इस मुद्रा में होल्‍ड करें. आपकी नजर नाभी की तरफ रहेगी. गहरी सांस लें और छोड़ें.

अश्वारोही- अब सांस भरते हुए उसी पैर को दोनों हाथों के बीच आगे स्‍ट्रेच कर लाएं जिसे पहले के अभ्‍यास में लाए थे. अब नजरें उठाएं. आपका दूसरा पैर पीछे की तरफ स्‍ट्रेच रहेगा. अब एक एक कर पादहस्तासन, हस्तउत्तनासन और प्राणामासन का अभ्‍यास करें. इस तरह आपके सूर्य नमस्‍कार का एक चक्र पूरा होगा. विस्‍तार से देखने के लिए विडियो लिंक पर क्लिक करें.

टैग: योग के लाभ, स्वास्थ्य, जीवन शैली, योग

Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *